देश का विदेशी मुद्रा भंडार उच्च स्तर पर पहुचा 

Whatsapp

आर्थिक मोर्चे पर तेजी से आगे बढ़ रही इंडियन इकोनॉमी के लिए एक और अच्छी खबर है. देश के विदेशी मुद्रा भंडार यानी India’s Forex Reserve में एक बार फिर बढ़ोतरी हुई है. भारतीय रिजर्व बैंक के साप्ताहिक आंकड़ों के मुताबिक 13 जनवरी को समाप्त हुए सप्ताह में देश के विदेशी मुद्रा भंडार में 10.41 अरब डॉलर का इजाफा हुआ है. इससे पहले 6 जनवरी को समाप्त सप्ताह में इसमें 1.27 अरब डॉलर की गिरावट आई थी.
आरबीआई के शुक्रवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक देश का विदेशी मुद्रा भंडार 572 अरब डॉलर हो गया है. जबकि 6 जनवरी वाले सप्ताह में 561.58 अरब डॉलर था.

अगस्त के बाद आया उछाल : देश का विदेशी मुद्रा भंडार 5 महीने के हाई लेवल पर पहुंच गया है. विदेशी मुद्रा भंडार में इतना उछाल अगस्त के बाद अब देखा गया है. इससे पहले अक्टूबर 2022 में विदेशी मुद्रा भंडार में एक हफ्ते के दौरान ही 14.72 अरब डॉलर का उछाल देखा गया था. जबकि अक्टूबर 2021 में देश का फॉरेक्स रिजर्व अपने सर्वकालिक उच्च स्तर 645 अरब डॉलर पर पहुंच गया था.

9 अरब डॉलर बढ़ा एफसीए : आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक देश के विदेशी मुद्रा भंडार में शामिल फॉरेक्स करेंसी एसेट्स (FCA) में 9.07 अरब डॉलर बढ़कर 505.519 अरब डॉलर की हो गईं. एफसीए में यूरो, पौंड और येन जैसी अन्य विदेशी मुद्राएं भी शामिल होती हैं. हालांकि इनकी वैल्यू की गणना बस डॉलर में की जाती है.
इस अवधि में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) में रखा देश का मुद्रा भंडार भी 8.6 करोड़ डॉलर बढ़कर 5.227 अरब डॉलर हो गया. इसे डॉलर के मुकाबले रुपये की साख से जोड़कर देखा जाता है. जबकि देश को मिलने वाला विशेष आहरण अधिकार (SDR) 14.7 करोड़ डॉलर बढ़कर 18.364 अरब डॉलर हो गया है.

सोने का भंडार की बढ़ा : विदेशी मुद्रा भंडार के अलावा आरबीआई उसके पास मौजूद स्वर्ण भंडार के आंकड़े भी हर हफ्ते जारी करता है. ताजा आंकड़ों के मुताबिक देश के स्वर्ण भंडार का मूल्य 1.106 अरब डॉलर बढ़कर 42.89 अरब डॉलर हो चुका है.