सड़कों पर हैवी ट्रक दौड़ाती नजर आएगी महिलाएं, आत्मनिर्भर बनने की ओर एक बड़ा कदम

Whatsapp

छिंदवाड़ा: आज तक आपने महिलाओं को स्कूटी, बाइक, कार आदि चलाते तो देखा सुना होगा लेकिन हैवी ट्रक महिला ड्राइवर के बारे में शायद ही सुना होगा। लेकिन  छिंदवाड़ा में अब महिलाएं हैवी ट्रक चलाती नजर आएंगी। आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश बनाने के लिए यह योजना मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री और परिवहन मंत्री के निर्देशों पर शुरु की गई है। इसके लिए 30 महिलाओं ने बकायदा प्रशिक्षण भी ले रही हैं।

प्रदेश के सबसे बड़े जिले में महिलाएं जल्द ही सड़क पर ट्रक दौड़ाती नजर आएगी। आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश के तहत शुरू की जा रही है इस पहल में कमजोर वर्ग की महिलाओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण के उपरांत महिलाओं को वाहन चलाने का लाइसेंस भी निःशुल्क मुहैया कराया जाएगा।

पंजाब केसरी की टीम से चर्चा में अतिरिक्त क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी सुनील कुमार शुक्ला ने बताया कि छिंदवाड़ा के शुरुआती बेच के लिए 30 महिलाओं का चयन किया गया है। इसके बाद शासन से मिलने वाले निर्देशों के अनुसार अगले बैच की शुरुआत होगी।

प्रशिक्षण के लिए जिले में स्थित अशोक लीलैंड ड्राइविंग ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट में करवाई जायगी। फरवरी माह से प्रशिक्षण शुरू कर दिया जाएगा। ट्रेनिंग पूरी होने के बाद टैक्सी संचलन के क्षेत्र में काम करने वाली विभिन्न कंपनियों से जुड़ सकती हैं या फिर स्वयं का व्यवसाय शुरू कर सकती हैं।