कमलनाथ सरकार की बड़ी चूक, बंद स्कूलों में किए 45 शिक्षकों के तबादले

Whatsapp

नीमच:15 सालों के सूखे के बाद सत्ता में लौटी कमलनाथ सरकार कामकाज को लेकर कम और तबादलों को लेकर ज्यादा घिरी हुई है। सरकार तबादले करने में इतनी बिजी है कि इस बात का बिल्कुल ध्यान नही रखा जा रहा कि किसका कहां और कितनी बार तबादला किया जा रहा है। तबादले का ही मामला नीमच से सामने आया है। जहां शिक्षा विभाग ने बंद पड़े स्कूल में ही शिक्षक की पोस्टिंग कर दी।

दरअसल, नीमच जिला से करीब 40 किलोमीटर दूर जावद उपखण्ड  का अंबा एक गाँव है जहां शिवराज सरकार के वक्त पिछले सत्र में ही शासकीय माध्यमिक पाठशाला बंद कर दी गई थी। ऐसे में यहां अगर स्कूल बंद है तो कैसे सरकार ने यहां शिक्षक की पोस्टिंग कर दी। ऐसा एक दो नहीं जिले के 45 बंद स्कूलों में से अधिकांश में शिक्षकों के तबादले कर दिए गए। इस लापरवाही के सामने आने के बाद शिक्षा विभाग के अधिकारियों पर सवाल खड़े हो रहे है। वहीं मामला सामने आने के बाद शिक्षा अधिकारी ने बताया कि दो-तीन दिनों में जिले के सभी स्कूलों से जानकारी मंगवाई गई है। स्कूलों से विद्यार्थियों की संख्या, स्वीकृत पद, पदस्थ और रिक्त पद के साथ ही अतिशेष शिक्षकों की जानकारी मंगवाई गई है। इस लापरवाही के बाद अधिकारियों पर गाज गिरना तय है।

पोर्टल के आधार पर तबादले 
जिले में जो तबादले हुए हैं उनकी वजह से कुछ व्यवस्था गड़बड़ाई है। स्वैच्छिक और प्रशासनिक आधार पर तबादले हुए हैं। पोर्टल के आधार पर तबादले हुए हैं। इस कारण जिन स्कूलों में एक भी बच्चा नहीं है वहां भी 45 शिक्षकों को भेज दिया गया। अब युक्तियुक्तकरण के माध्यम से व्यवस्था बनाई जाएगी।