बिना लिफाफा लिए काम नहीं करते कमलनाथ के मंत्री- विधायक राजेश शुक्ला

Whatsapp

छतरपुर: मध्यप्रदेश में कांग्रेस का कलह चरम पर है तो वहीं अन्य दलों के विधायक भी अब कांग्रेस सरकार के खिलाफ खुलकर मोर्चा खोल रहे हैं। इसी क्रम में सरकार को समर्थन दे रहे  छतरपुर जिले की बिजावर विधानसभा से एकमात्र सपा विधायक राजेश शुक्ला (बब्लू) ने अपने एक नए बयान से सरकार को मुश्किल में डाल दिया है।

छतरपुर में बब्लू शुक्ला ने कहा कि प्रदेश के कई मंत्रियों ने भ्रष्टाचार की दुकानें खोल रखी हैं और बिना लिफाफा लिए कोई काम नहीं करते। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार को सिर्फ कांग्रेसियों से ही खतरा है। निर्दलीय एवं अन्य दल के समर्थक विधायक मुख्यमंत्री कमलनाथ के साथ हैं लेकिन जो कांग्रेस के विधायक और मंत्री हैं वही कांग्रेस की लुटिया डुबोने में जुटे हुए हैं।

उन्होंने कहा कि प्रदेश के तीन मंत्री तुलसी सिलावट, कमलेश्वर पटेल और बाला बच्चन बिना पैसा लिए कोई काम नहीं कर रहे हैं। भिण्ड के दो विधायकों ने भी बीते रोज ऐसे ही आरोप लगाए थे। मुख्यमंत्री को ऐसे मंत्रियों के खिलाफ सख्त कदम उठाने चाहिए।

5 विधायकों को नजरंदाज किया गया, कलेक्टर मोहित बुंदस को नहीं हटाया..
बब्लू शुक्ला यही नहीं रुके उन्होंने कहा कि प्रदेश में सरकार बने लगभग 9 माह का समय हो चुका है लेकिन उन्हें ऐसा नहीं लगता कि कोई भी बदलाव आया है। जिस तरह भाजपा के 15 वर्षों के शासन में अफसरशाही हावी थी उसी तरह अब भी अफसरशाही अपने चरम पर है।

उन्होंने कहा कि छतरपुर कलेक्टर मोहित बुंदस जमीन से जुड़े व्यक्ति नहीं हैं। न ही वे आम लोगों को शासन की योजनाओं का लाभ दिला पा रहे हैं। कलेक्टर को छतरपुर से हटाने के लिए छतरपुर के 5 विधायकों ने मुख्यमंत्री को लिखित में चिट्ठी दी थी इसके बाद भी सरकार ने विधायकों को नजरंदाज कर कलेक्टर को अभयदान दे दिया।

उन्होंने कहा कि लोग अपनी समस्याओं के समाधान के लिए कलेक्टर की गाड़ी के नीचे लेटने को मजबूर हैं लेकिन सरकार कलेक्टर को नहीं हटा रही। यह अफसरशाही को बढ़ावा देने वाला कदम है।