एनकाउंटर के दौरान घटनास्थल से भागी काली कार 4 दिन बाद भी पुलिस की पहुंच से दूर

Whatsapp
राष्ट्र चंडिका (अमर नोरिया) नरसिंहपुर – सुआतला थाने के अंतर्गत गत 18-19 अगस्त की दरम्यानी रात को NH 12 पर कुमरोड़ा गांव के नजदीक हुए एनकाउंटर में मृतकों के द्वारा जिस काली स्विफ़्ट डिजायर कार का उपयोग किया था वह घटनास्थल से भागने के बाद अभी तक पुलिस के हाथ नहीं लगी है । गौरतलब है कि गत 18 -19 अगस्त को नरसिंहपुर पुलिस को कुछ अपराध करने की मंशा को लेकर नरसिंहपुर जिले में कुछ लोगों के आने के सूचना के आधार पर पुलिस अधीक्षक नरसिंहपुर गुरुकरण सिंह के निर्देश पर शासकीय वाहन में आर्म्स एम्युनेशन के साथ एडी एसपी राजेश तिवारी, टी आई गोटेगांव प्रभात शुक्ला, रक्षित केन्द्र बल से उप निरीक्षक राजेन्द्र बागरी,सेंट्रल स्काट की टीम के प्रभारी सहायक उप निरीक्षक संजय सूर्यवंशी, हवलदार राजेश शर्मा,आरक्षक राजेन्द्र पटैल, अनुराग और लक्ष्मी नगपुरे ने नरसिंहपुर सागर रोड पर झिरा घाटी के पास घेराबंदी कर रखी थी । तब मुखबिर से सूचना मिली कि बदमाश काले रंग की स्विफ्ट डिजायर कार से जबलपुर की ओर भाग गये हैं । तब पुलिस ने उक्त काले रंग की कार का पीछा करते हुए उसे NH 12 पर कुमरोड़ा गांव के नजदीक एक पुल के पास ओवरटेक कर रोकने का प्रयास किया गया तब बदमाशों ने कार से ही पुलिस पार्टी पर फायर करना शुरू कर दिया तब पुलिस ने शासकीय वाहन का सहारा लेते हुए अपने आपको बचाने का प्रयास करते हुए जबाबी कार्यवाही की जिससे मोके पर ही दो व्यक्ति ढेर हो गये थे जिनकी  पहचान जबलपुर के फरार इनामी बदमाश विजय यादव व समीर खान के रूप में की गई । इस दौरान हुए इस पूरे घटनाक्रम के दौरान मौके से वह काले रंग की स्विफ़्ट डिजायर कार भाग निकली और पुख्ता मुखबिर की सूचना और जानकारी होने के बाद जबलपुर की ओर भागने वाली काली डिजायर कार कहां गायब हो गई इसकी जानकारी घटना के 4 दिन बाद भी पुलिस को नहीं लग पाई है । महत्वपूर्ण बात यह की इस पूरे घटनाक्रम के दौरान पुलिस टीम के अन्य लोग व पुलिस अधिकारी उस कार को पकड़ने के लिये जिले सहित अन्य जिले की पुलिस को सूचना दिये की नहीं इस बात को लेकर आमजनों में तरह तरह की चर्चाओं का दौर लगातार जारी है ।