Breaking News
Home / देश / रिया की याचिका के विरोध में नीतीश सरकार, SC में दाखिल किया कैविएट

रिया की याचिका के विरोध में नीतीश सरकार, SC में दाखिल किया कैविएट

पटना।बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में अब बिहार की नीतीश सरकार (Nitish Government) खुल कर सामने आ गई है। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में सुशांत की गर्लफ्रेंड (GF) एवं फिल्म अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) ने याचिका दायर कर गुहार लगाई है कि पटना के राजीव नगर थाने में सुशांत के पिता केके सिंह ने जो एफआइआर दर्ज कराई है, उसे मुंबई स्थानांतरित किया जाए। इस पर बिहार सरकार ने आपत्ति जाहिर करते हुए याचिका के विरोध में कैविएट (आपत्ति याचिका) दायर कर दी है। इस मामले में सुशांत के पिता ने भी कैविएट दायर करने की बात कही है।

बिहार सरकार ने कैविएट दायर कर कही ये बात

बिहार के महाधिवक्ता ललित किशोर ने बताया कि अधिवक्ता मुकुल रोहतगी सुप्रीम कोर्ट में बिहार सरकार की ओर से रिया चक्रवर्ती की याचिका का विरोध करेंगे। बिहार सरकार की ओर से कैविएट दायर कर कहा गया है कि रिया की याचिका पर सुनवाई के समय उसका पक्ष भी सुना जाए। राज्य सरकार का कहना है कि सुशांत के पिता ने एफआइआर में जो आरोप लगाया है, उसकी जांच के लिए बिहार पुलिस की टीम मुंबई में है और तहकीकात जारी है। आखिर रिया चक्रवर्ती डर क्यों रही हैं? अनुसंधान में यदि वे निरपराध साबित होंगी तो उसमें बुराई क्या है?

क्‍या है पूरा मामला, जानिए

विदित हो कि बीजे 14 जून को सुशांत सिंह राजपूत मुंबई के अपने फ्लैट में मृत पाए गए थे। इस सुसाइड का मामला माना गया है। हालांकि, हत्‍या के आरोप भी लगते रहे हैं। मामले की जांच मुंबई पुलिस कर रही है। इस बीच सुशांत के पिता केके सिंह ने पटना के राजीव नगर थाने में बेटे की गर्लफ्रेंड रहीं रिया चक्रवर्ती के खिलाफ धन उगाही, ब्‍लैकमेल, सुसाइड के लिए उकसाने व प्रताड़ना आदि के कई गंभीर आरोप लगाते हुए एफआइआर दर्ज करा दी है। इसकी जांच के लिए बिहार पुलिस मुंबई पहुंच गई है। रिया बिहार में दर्ज एफआइआर को मुंबई स्‍थानांतरित कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट गईं हैं, जिसका सुशांत के पिता व बिहार सरकार ने विरोध किया है।

About Akhilesh Dubey

Check Also

Delhi Metro News: दिल्ली मेट्रो में डेबिट और क्रेडिट कार्ड से भुगतान कर सकेंगे यात्री, DMRC कर रहा तैयारी

नई दिल्ली।  दिल्ली-एनसीआर के लाखों यात्रियों की लाइफलाइन बन चुके दिल्ली मेट्रो में एक बड़ा …