कचरा उठाने पहुंचे ईकाेेग्रीन कंपनी के कर्मचारियाें काे धमका रहे हड़ताल में शामिल लाेग, कॉलाेनियाें में सड़ रहा कचरा

Whatsapp

ग्वालियर। सफाई कर्मचारियाें एवं विनियमित कर्मचारियाें की हड़ताल ताे समाप्त हाे गई, लेकिन ईकाेग्रीन कंपनी के कर्मचारी अब भी हड़ताल पर हैं। इतना ही नहीं यह लाेग सफाई करने व कचरा उठाने पहुंच रहे कर्मचारियाें काे भी धमकाकर काम नहीं करने दे रहे हैं। ऐसे में हालत यह है कि गली माेहल्लाें एवं कॉलाेनियाें में कचरे के ढेर अब तक साफ नहीं हाे सके हैं। साथ ही इनसे उठने वाली दुर्गंध आसपास रहने वालाें के लिए परेशानी बन गई है।

16 अगस्त से चली आ रही सफाई कर्मचारियों एवं विनियमित कर्मचारियों की हड़ताल 18 अगस्त को समाप्त हो गई। इसके साथ ही 19 अगस्त से सभी आउटसोर्स कर्मचारी एवं विनियमित कर्मचारी काम पर लौट आए थे। अब मुश्किल यह है कि विगत तीन दिनाें से हड़ताल के कारण गली माेहल्लाें एवं कॉलाेनियाें से कचरा नहीं उठा है। इसे उठाने के लिए अब कर्मचारियाें काे दाेगुनी मेहनत करना हाेगी, साथ ही समय भी काफी लगेगा। आज सुबह जब सफाई कर्मचारी सफाई करने एवं कचरा कलेक्शन के लिए पहुंचे ताे ईकाेग्रीन के हड़ताली कर्मचारियाें ने इनकाे धमकाकर काम नहींं करने दिया। उल्लेखनीय है कि 18 अगस्त की सुबह प्रभारी निगमायुक्त आशीष तिवारी, अपर आयुक्त संजय मेहता, स्वास्थ्य के नोडल अधिकारी सतपाल सिंह चौहान, पप्पू बडौनी, मनीष राजौरिया, संतोष गोडयाले, सुधीर डागौर एवं विक्रम बागड़े के साथ बैठक की थी। बैठक में सहमति बनी थी की विनियमित कर्मचारियों को छटवें वेतनमान का लाभ दिया जाएगा। इसके साथ ही नियमित कर्मचारियों के जो पद रिक्त होंगे वहां विनियमित कर्मचारियों की भर्ती नियमित कर्मचारी के रूप में चतुर्थ श्रेणी पर की जाएगी। इस पर सहमति देने के बाद यूनियन ने हड़ताल खत्म करने की सहमति दे दी, लेकिन ईकोग्रीन के कर्मचारी हड़ताल खत्म करने काे तैयार नहीं हैं। कर्मचारियाें ने हंगामा शुरू कर दिया है। साथ ही जो कर्मचारी काम पर गए हैं उन्हें धमका रहे हैं। वहीं कुछ आउटसोर्स कर्मचारी भी काम पर नहीं आए हैं।