नगरीय निकाय में अध्यक्ष-उपाध्यक्ष की कुर्सी तक पहुंचने पार्षद बेताव, जोड़-तोड में जुटे राजनीतिक दल

Whatsapp
राष्ट्र चंडिका,सिवनी । जिले के चार नगरीय निकाय में अध्यक्ष-उपाध्यक्ष की कुर्सी तक पहुंचने कई पार्षद उतावले और बेताव दिखाई दे रहे हैं।समर्थकों के जरिए पार्षदों ने अध्यक्ष-उपाध्यक्ष पद के लिए अपना नाम आगे रखना भी शुरू कर दिया है।नगर पालिका सिवनी में कांग्रेस को बहुमत मिला है, तो वहीं केवलारी नगर परिषद में भाजपा बहुमत में है।नगर परिषद छपारा में भाजपा ने सबसे ज्यादा सीटें जीती हैं। बरघाट में दोनों प्रमुख राजनीतिक दलों से निर्दलीय आगे निकल गए हैं।ऐसे में चारों नगरीय निकाय में अलग-अलग समीकरण बनते दिख रहे हैं। नगर पालिका सिवनी में 18 साल बाद हो रहे सत्ता परिवर्तन पर सबकी नजर टिकी हुई हैं।बहुमत होने के बावजूद अध्यक्ष की कुर्सी को लेकर पार्षदों में फूट का डर कांग्रेस को सता रहा है।वहीं भाजपा भी पार्षदों में फूट का फायदा उठाने की जुगत में लगी हुई।

पहली बार जीते पार्षद भी दौड़ में: नगर पालिका में 24 में से 13 वार्ड पर कांग्रेस पार्षद जीतकर आए हैं।अध्यक्ष का पद ओबीसी मुक्त के लिए आरक्षित है।इसके चलते अध्यक्ष पद के दावदारों की संख्या बढ़ने के साथ ही पार्षदों में अंदरूनी तौर पर खींचतान का दौर भी शुरू हो गया है।पहली बार चुनाव जीते पार्षद भी खुद को अध्यक्ष की दौड़ में आगे बताने में जुट गए हैं।इधर, सत्ता का सपना देख रही भाजपा विरोधी खेमे में पार्षदों पर नजर जमाए बैठी हैं। वही, एक वार्ड पर जीते निर्दलीय को अपने खेमे में लाने का प्रयास भी दोनों तरफ से हो रहा है।

ओबीसी वर्ग से चुनकर आए आठ पार्षदः कांग्रेस के 6 पार्षद ओबीसी वर्ग के हैं।इनमें 3 महिलाएं व 3 पुरुष शामिल हैं।पुरूष पार्षदों में एक पूर्व में नगर पालिका उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं और अच्छा खासा अनुभव रखते हैं।वहीं दूसरे पार्षद ने लगातार 6वीं बार जीत हासिल की है।जबकि तीसरे पहली बार पार्षद चुनकर आए हैं।वहीं महिलाओं में तीनों को पहली बार पार्षद का चुनाव जीतकर आई हैं। इधर, भाजपा में ओबीसी वर्ग से एक महिला और एक पुरूष को पार्षद चुनाव में जीत मिली है।

तीन परिषद में कांग्रेस के तीन-तीन पार्षदः नगर परिषद छपारा, केवलारी बरघाट में कांग्रेस के केवल 3-3 पार्षद ही जीत सकें हैं।वहीं भाजपा ने छपारा सात और बरघाट में पांच सीट पर कब्जा किया है। केवलारी की दो सीट पर गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के कब्जे में आई हैं।जबकि एक पर निर्दलीय ने जीत हासिल की है। यहां पर नौ सीट पर भाजपा ने अपना परचम लहराया है।नगर परिषद केवलारी में अध्यक्ष का पद अनारक्षित महिला है। भाजपा से 5 महिलाओं ने पार्षद का चुनाव जीता है।ऐसे में नगर परिषद का पहला अध्यक्ष कौन है, इसका लेकर असमंजस्य की स्थिति बरकरार है।वहीं बरघाट में तीसरे मोर्चे को अध्यक्ष की कुर्सी से दूर रखने भाजपा-कांग्रेस एक साथ होते दिख रहे हैं।वहीं, नगर परिषद के पूर्व अध्यक्ष के विकास मोर्चा के बैनर तले 7 पार्षद जीते हैं। अध्यक्ष की कुर्सी पर पहुंचने विकास मोर्चा भी अपना समीकरण बैठाने में लगा हुआ है।

छपारा में भी दिख रही खींचतानः जिले की छपारा नगर परिषद में अध्यक्ष का पद ओबीसी महिला वर्ग के लिए आरक्षित हैं।चुनाव जीतने वाले पार्षदों में अध्यक्ष की दौड़ में शामिल प्रत्याशियों के बीच खींचतान का दौर जारी है।ओबीसी महिला वर्ग से भाजपा, कांग्रेस से एक-एक पार्षद को जीत मिली है। वहीं एक ओबीसी महिला निर्दलीय के तौर पर जीतकर आई हैं।इससे नगर परिषद छपारा में अध्यक्ष की कुर्सी का मुकाबला रोचक हो गया है।वहीं जीतकर आए ज्यादातर पार्षदों के मोबाइल नाट रिचेवल हो गए हैं।

नगरीय निकाय में अध्यक्ष पद के आरक्षण की स्थिति

नगरीय निकाय अध्यक्ष पद

नगर पालिका सिवनी ओबीसी मुक्त

नगर परिषद बरघाट ओबीसी महिला

नगर परिषद छपारा ओबीसी महिला

नगर परिषद केवलारी अनारक्षित महिला