इस वजह से PoK पहुंच गए थे विंग कमांडर अभिनंदन, रिपोर्ट से हुआ खुलासा

Whatsapp

भारतीय वायुसेना के बालाकोट में एयरस्ट्राइक के बाद बौखलाए पाकिस्तान ने भारतीय सीमा में अपने विमान भेजे थे जिनको एयरफोर्स ने खदेड़ दिया था। पाकिस्तान की नापाक हरकत को नाकाम करने के लिए भारतीय सेना के दो विमान उड़े जिनमें से एक विमान पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर ( PoK ) में गिर गया था और विंग कमांडर अभिनंदन वर्थमान पाकिस्तान पहुंच गए थे।

विंग कमांडर अभिनंदन पाकिस्तान कैसे पहुंच गए इसको लेकर वायुसेना उप-प्रमुख ने केंद्र सरकार को इसकी पूरी रिपोर्ट भेजी जिसमें पूरे ऑपरेशन को विस्तार से समझाया गया। रिपोर्ट में बताया गया विंग कमांडर अभिनंदन के विमान मिग-21 के साथ हुई इस घटना में तब कंट्रोल रूम की तरफ से भेजे जा रहे रेडियो संदेश विमान तक नहीं पहुंच पाए थे। विमान का रेडियो जाम हो गया था जिस वजह से कमांडर अभिनंदन तक कोई मैसेज नहीं पहुंचा और वो भारतीय सीमा को पार कर गए। कंट्रोल रूम से अभिनंदन को वापिस लौट आने के मैसेज भेजे गए लेकिन वो उन तक पहुंचे ही नहीं और विमान में आग लगने के कारण अभिनंदन पैराशूट के सहारे पीओके में पहुंच गए।

केंद्र ने उठाया बड़ा कदम
वहीं इस मामले के बाद केंद्र ने अब बड़ा कदम उठाया है। केंद्र ने रक्षा मंत्रालय की तरफ से एक प्रपोज़ल को मंजूरी दी है जिसके तहत रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) एक ऐसा सॉफ्टवेयर बनाने पर काम करेगा जिसके तहत लड़ाकू विमान में बैठे पायलट और ग्राउंड पर मौजूद कंट्रोल रूम का रेडियो जाम नहीं होगा।

क्या हुआ था 27 फरवरी को
14 फरवरी को जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ने पुलवामा में CRPF के काफिले पर हमला कर दिया था। इस हमले में CRPF के 40 जवान शहीद हो गए थे। इस हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने 27 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में एयरस्ट्राइक की थी और जैश-ए-मोहम्मद के अड्डों पर बम बरसाए थे। भारतीय वायुसेना की इस कार्रवाई के बाद पाकिस्तान में हड़कंप मच गया था।

बौखलाए पाकिस्तान के कुछ विमान भारतीय सीमा में दाखिल हुए थे। इसी दौरान विंग कमांडर अभिनंदन ने पाकिस्तान के F-16 विमान को मिग-21 से मार गिराया था और अन्य एक पाकिस्तान का पीछा करते हुए वो PoK तक पहुंच गए थे। पाकिस्तान रेंजर्स ने कमांडर अभिनंदन को पकड़ लिया था लेकिन भारत के कूटनीतिक दवाब के चलते 48 घंटे के अंदर ही विंग कमांडर अभिनंदन वापिस वतन आ गए थे।