आदिवासी की मौत से चिंतित हुए पूर्व सीएम कमलनाथ, जांच दल गठित कर नीमच भेजा

Whatsapp

भोपाल: मध्य प्रदेश के नीमच में आदिवासी से बेरहमी से मारपीट और ट्रक से बांधकर घसीटने की घटना चिंता जाहिर की है। मारपीट से आदिवासी की मौत मामले को गंभीरता से लेते हुए पूर्व सीएम ने मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी का एक दल पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया की अध्यक्षता में नीमच जिले के सिंगोली भेजने का निर्णय लिया है। यह दल मौके पर जाकर पीड़ित परिवार व स्थानीय नागरिकों से मुलाकात कर अपनी रिपोर्ट प्रदेश कांग्रेस कमेटी को सौंपेगा।

इस जांच दल में
हर्ष विजय गहलोत (विधायक)
पाची लाल मीणा (विधायक)
दिलीप गुर्जर  (विधायक)
मनोज चावला (विधायक) के नाम शामिल किए गए है।

ये है पूरा मामला
नीमच जिले के सिंगोली थाना क्षेत्र में भील आदिवासी को चोर होने के शक में कुछ लोगों ने बुरी तरह पीटा और फिर भी मन ना भरा तो एक पिक अप वाहन के पीछे रस्सी से पैर बांधकर दूर तक घसीट दिया। इस मारपीट के बाद व्यक्ति ने दम तोड़ दिया। 45 वर्षीय मृतक कान्हा उर्फ कन्हैया भील बाणदा का रहने वाला था, जिसे चोर समझकर वहां से गुजर रहे कुछ लोगों ने पकड़ लिया और मारपीट करने लगे इसके बाद कुछ लोग और वहां आ गए। जिन्होंने मृतक कन्हैया के साथ मारपीट कि तथा उस सच उगलवाने के लिए एक लोडिंग वाहन के पीछे बांधकर घसीट भी दिया। मरने से पहले कन्हैया भील उसके साथ मारपीट करने वालों के हाथ पैर जोड़ रहा था और कह रहा था कि उसने कुछ नहीं किया है लेकिन कन्हैया भील के साथ मारपीट करने वालों के सिर पर मानों खून सवार था और एक के बाद एक जिसे मौका मिला उसने उसके साथ पूरी बर्बरता की। बाद में जब पुलिस घायल कन्हैया भील को नीमच जिला अस्पताल लेकर पहुंची दो कन्हैया भील ने दम तोड़ दिया। इस घटना की वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।