तालिबान संगठन विदेशी निकासी की समय सीमा बढ़ाने के लिए सहमत नहीं, कहा – निकासी 31 अगस्त तक पूरी हो जाए

Whatsapp

काबुल। अफगानिस्तान के नए तालिबान शासकों ने मंगलवार को कहा कि वे चाहते हैं कि देश से सभी विदेशी निकासी 31 अगस्त की समय सीमा तक पूरी हो जाए। तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने राजधानी में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा हम उनकी सुरक्षा की गारंटी देते हैं, जिसे तालिबान लड़ाकों ने 15 अगस्त को पकड़ा था।

देश में तालिबान के तेजी से कब्जा करने के बाद हिंसा ने हवाई अड्डे पर अराजकता फैला दी है। सात देशों के समूह (जी7) देशों के नेता ब्रिटेन, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान और अमेरिका इस संकट पर चर्चा के लिए मंगलवार को मिलने वाले है।

दो अमेरिकी सूत्रों ने रायटर को बताया कि सीआइए के निदेशक विलियम बर्न्स ने सोमवार को काबुल में तालिबान नेता अब्दुल गनी बरादर से मुलाकात की थी। तालिबान के मुजाहिद ने कहा कि तालिबान संगठन समय सीमा बढ़ाने के लिए सहमत नहीं था और वह चाहते है कि सभी विदेशी निकासी 31 अगस्त तक पूरी हो जाए

तालिबान ने आगे कहा कि अमेरिका अफगान लोगों को अपनी मातृभूमि छोड़ने के लिए प्रोत्साहित नहीं करगा। तालिबान वार्ता के माध्यम से स्थिति को हल करना चाहता था। विदेशी दूतावासों से काम रोकने या बंद नहीं करने का आग्रह किया। हमने उन्हें सुरक्षा का आश्वासन दिया है।

हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव इंटेलिजेंस कमेटी के अध्यक्ष डेमोक्रेटिक अमेरिकी प्रतिनिधि एडम शिफ ने संवाददाताओं से कहा कि उन्हें विश्वास नहीं है कि निकासी शेष दिनों में पूरी हो सकती है। यह संभव है, लेकिन मुझे लगता है कि अमेरिकियों की संख्या को देखते हुए इसकी बहुत संभावना नहीं है।

ब्रिटिश रक्षा मंत्री बेन वालेस ने स्काई न्यूज को बताया कि उन्हें संदेह है कि समय सीमा बढ़ाई जाएगी। लेकिन जर्मन विदेश मंत्री हेइको मास ने कहा कि जर्मनी, अमेरिका और ब्रिटेन के साथ काम कर रहा है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि नाटो सहयोगी समय सीमा के बाद नागरिकों को बाहर निकाल सकें। मास ने बिल्ड अखबार को बताया समय सीमा 31 अगस्त है या कुछ दिनों के लिए बढ़ा दी जाए फिर भी हम लोग सभी को निकाल नहीं पाएगे।