रायपुर में आइआइटी और मेडिकल के लिए राष्ट्रीय स्तर की कोचिंग शुरू

Whatsapp
रायपुर। छत्‍तीसगढ़ में आइआइटी और मेडिकल जैसी तकनीकी संस्थानों में प्रवेश की प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए अब यहां के छात्र-छात्राओं को छत्‍तीसगढ़ के बाहर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। राजधानी रायपुर में ही राष्ट्रीय स्तर की कोचिंग की सुविधा हो गई है। स्कूल शिक्षा मंत्री डाक्‍टर प्रेमसाय सिंह टेकाम ने जिन-एडू संस्थान द्वारा संचालित आइआइटी-मेडिकल जोन (कोचिंग सेंटर) का आज यहां सिविल लाइन में शुभारंभ किया। इस दौरान महापौर रायपुर एजाज ढेबर, रेरा के अध्यक्ष विवेक ढांड, कोचिंग सेंटर के संचालक प्रशांत शर्मा, गगन वोरा, प्रमोद सिंह राणा, हिमांशु शर्मा समेत आदि उपस्थित रहे।
स्कूल शिक्षा मंत्री डाक्‍टर टेकाम ने रायपुर में राष्ट्रीय स्तर की कोचिंग शुरू होने पर सभी को बधाई और शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में पहली बार आइआइटी-मेडिकल जोन द्वारा विद्यार्थियों को प्रतियोगी परीक्षा की तैयारियों के लिए डिजिटल क्लास रूम के माध्यम से कम खर्च पर कोचिंग उपलब्ध होगी। उन्होंने कहा कि मेडिकल और इंजीनियरिंग इंट्रेन्स एक्जाम की कोचिंग देने वाले देश के एक्सपर्ट टीचर बच्चों को कोचिंग देंगे। डाक्‍टर टेकाम ने कहा कि हर माता-पिता का सपना होता है कि उनका बच्चा बेहतर शिक्षा ग्रहण करें।
शिक्षा व्यवस्था दिनों-दिन बेहतर होते जा रही है। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय प्रतियोगिता का समय है। इसके लिए जरूरी है कि प्रतिभागी बच्चों को इस तरह तैयार किया जाए कि वह राष्ट्रीय स्तर पर कामयाबी हासिल कर सके। उन्होंने उम्मीद जताई कि रायपुर में इस कोचिंग संस्थान के शुरू होने से छत्तीसगढ़ से आइआइटी-मेडिकल में प्रवेश के लिए सफल होने वाले विद्यार्थियों की संख्या में बढोतरी होगी।
महापौर एजाज ढेबर ने कहा कि बच्चों को शिक्षा के साथ-साथ संस्कार की भी ज्यादा जरूरत है। उन्होंने कहा कि राजधानी में कोचिंग सेंटर प्रारंभ होने से यहां के बच्चों को राष्ट्रीय स्तर की कोचिंग उपलब्ध होगी। छत्तीसगढ़ के बच्चों को अब प्रतियोगी परीक्षाओं की कोचिंग के लिए कोटा नहीं जाना पड़ेगा, इससे धन और समय की बचत होगी। इस दौरान रेरा के अध्यक्ष विवेक ढांड ने संबोधित करते हुए कहा कि यह हाईटेक कोचिंग संस्थान छत्‍तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के साथ ही देश के 16 जगहाें पर संचालित होगी।
विद्यार्थियों को यहां आनलाइन और आफलाइन कोचिंग की सुविधा उपलब्ध होगी। क्लासरूम में डिजीटल बोर्ड पर पढ़ाई जाने वाली पाठ्य सामग्री को इस संस्थान के देश भर में संचालित क्लासरूम में छात्र देख और सुन सकेंगे। इसके अलावा किसी भी क्लास रूम में छात्र द्वारा पूछे गए प्रश्न को विद्यार्थी सुनकर अपने डाउट को क्लीयर कर सकेंगे। कार्यक्रम को कोचिंग संस्थान के प्रशांत शर्मा ने भी संबोधित किया।