पांच हजार रुपये में बिक रहा था नर्सिंग का पर्चा, FIR दर्ज कराने की तैयारी

Whatsapp

रायपुर: पं. दीनदयाल उपाध्याय स्मृति स्वास्थ्य विज्ञान एवं आयुष विश्वविद्यालय, रायपुर छत्तीसगढ़ में पर्चा लीक का मामला सामने आया है। शुक्रवार को विवि की ओर से बीएससी नर्सिंग द्धितीय वर्ष के फार्मेटोलाजी: पैथोलाजी एंड जेनेटिक्स विषय की परीक्षा होनी थी। ऐन वक्त पर पता चला कि इस परीक्षा का पर्चा इंटरनेट मीडिया में वायरल हो चुका है।

विवि प्रबंधन को शिकायत मिली की बाजार में इसे पांच हजार रुपये में बेचा भी जा रहा है। विवि प्रबंधन ने आनन-फानन में महज 10 मिनट पहले ही परीक्षा रद करने का आदेश दिया। इसके बाद विवि के गोपनीय विभाग में हड़कंप मच गया। दिनभर विभागीय अधिकारियों से पूछताछ चलती रही और अधिकारियों के हाथ-पांव फूल गए।

विवि के पास परीक्षा रद करने के लिए टाइप करवाने तक का समय नहीं बचा था। मौखिक आदेश तो केंद्र के प्रभारियों को दे दिए गए थे। पर्चा भी पहुंच गया था। पर्चा रदद करने का आदेश विवि को लेटर पैड पर हाथ से लिखकर जारी किया गया। इधर, पर्चा लीक करने वाले गिरोह की जांच की जा रही है। जांच के बाद आरोपितों के खिलाफ एफआइआर कराया जाएगा। बहरहाल विवि प्रबंधन की लचर व्यवस्था ने प्रदेश के शिक्षा गुणवत्ता की पोल खोल दी है।

उत्तर-पुस्तिकाएं हो गईं खराब

बीएससी नर्सिंग की परीक्षा सुबह नौ बजे से शुरू होनी थी। परीक्षार्थी परीक्षा हाल में पहुंच गए थे। उत्तर पुस्तिकाओं में अपने डाटा भर रहे थे। 10 मिनट के भीतर परीक्षा रद होने से उत्तर-पुस्तिकाएं कोरी खराब हो गईं।

सभी परीक्षाएं हुईं स्थगित

विवि प्रबंधन को आशंका है कि अन्य विषयों के भी पर्चे लीक हो सकते हैं। लिहाजा आगामी आदेश तक बीएससी नर्सिंग की सभी परीक्षाए स्थगित कर दी गई हैं। गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ के आठ सरकारी और 95 निजी नर्सिंग कालेजों में बीएससी की 4600 सीटें हैं।

वर्जन

बीएससी नर्सिंग का पर्चा लीक कैसे हुआ, इसकी जांच की जा रही है। एफआईआर कराएंगे।

– डॉ. एके चंद्राकर, कुलपति, आयुष विश्वविद्यालय