जलवायु परिवर्तन पर UN में बोले PM मोदी, सिंगल यूज प्लास्टिक के लिए छेड़ा है अभियान

Whatsapp

संयुक्त राष्ट्रः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को संयुक्त राष्ट्र में जलवायु पर संबोधन दिया। इस दौरान उन्होंने कहा कि इस साल भारत के स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त को सिंगल यूज प्लास्टिक के लिए जन आंदोलन का आह्वान किया है। मैं आशा करता हूं कि इससे वैश्विक स्तर पर सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ जागरूकता बढ़ेगी। मुझे ये बताते हुए बहुत खुशी है कि कल हम यूएन की इस इमारत में भारत द्वारा लगाए गए सोलर पैनल का उद्घाटन करेंगे।
इससे पहले प्रधानमंत्री ने कहा कि क्लाइमेंट चेंज को लेकर दुनियाभर में अनेक प्रयास हो रहे हैं लेकिन हमें यह बात स्वीकारनी होगी कि गंभीर चुनौती का सामना करने के लिए उतना नहीं किया जा रहा है, जितना कि होना बहुत जरूरी है। आज जरूरत है एक कॉन्प्रेहिंसव अप्रोच की, जिसमें एजुकेशन, वेल्यूज और लाइफस्टाइल से लेकर डवलपमेंट फ्लॉसोफी भी शामिल हो। आज जरूरत है व्यवहारिक बदलाव के लिए एक विश्वव्यापी आंदोलन खड़ा करने की।
पीएम मोदी ने कहा हम अपने परिवहन क्षेत्र में ई-मोबेलिटी को प्रोत्साहन दे रहे हैं। हम पेट्रोल और डीजल में बायोफ्यूल की मिक्सिंग में बड़ी मात्रा में बढ़ोतरी कर रहे हैं। हमने 150 मिलियन परिवारों क्लीन कुकिंग गैस कनेक्शन दिए हैं। हमने वॉटर कंन्जर्वेशन, रैन वॉटर हार्वेशन और वॉटर रिसोर्स डवलपमेंट के लिए ‘मिशन जलजीवन’ शुरू किया है और अगले कुछ वर्षों में 150 बिलियन डॉलर खर्च करने की योजना है।
पीएम ने यूएन में कहा कि अंतराष्ट्रीय मंच की बात करें तो लगभग 80 देश हमारी इंटरनेशनल सोलर अलायंस के साथ जुड़ चुके हैं। मुझे खुशी है कि भारत और स्वीडन अन्य पार्टनर्स के साथ मिलकर इंडस्ट्री ट्रांजेशन ट्रैक के लीडरशिप ग्रुप का लॉन्च कर रहे हैं। यह पहल सरकारों और निजी क्षेत्र को साथ लेकर इंडस्ट्रीज के लिए लॉ कॉर्बन पाथ बेस बनाने में अहम भूमिका अदा करेगी। वैश्विक इंफ्रास्ट्रक्चर नेचुरल डिजास्टर का सामना कर सके, इसके लिए भारत कोलिएशन फॉर डिजास्टर रेजिएशन इंन्फ्रास्ट्रक्चर की शुरूआत कर रहा है। मैं सभी मेंबर स्टेट को इससे जड़ने के लिए सभी का आमंत्रित करता हूं।