विधानसभा की उपक्रम समिति ने किया औद्योगिक क्षेत्र का आकस्मिक दौरा

Whatsapp

रायपुर/सांकरा। विधानसभा की उपक्रम समिति ने छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से लगे ओधोगिक क्षेत्र उरला, सिलतरा का आकस्मिक दौरा किया और यहां की समस्याओं से रूबरू हुए। सड़क बत्ती बंद रहने से लेकर सड़कों की बदतर हालत और पानी की समस्या। इस दौरान मुख्यरूप से सामने आईं। वहीं, जब समिति में शामिल विधायक दल सांकरा सिलतरा के जायसवाल निको स्टील प्लांट पहुंचे, तो यहां के प्लांटेशन की हरियाली देख गदगद हो गए और प्रशंसा करने से खुद को रोक नहीं पाए।

विधानसभा की उपक्रम समिति के सदस्य वरिष्ठ विधायक पूर्व मंत्री सत्यनारायण शर्मा, पूर्व मंत्री विधायक बृजमोहन अग्रवाल, धनेंद्र साहू, धरसीवां विधायक अनिता योगेंद्र शर्मा एवं अन्य विधायकगण सर्वप्रथम औद्योगिक क्षेत्र उरला पहुंचे, यहां उन्होंने औधोगिक क्षेत्रों की समस्याओं को जाना। इसके बाद वह औद्योगिक क्षेत्र सिलतरा ओर अंत मे सिलतरा के सांकरा स्थित जायसवाल निको स्टील प्लांट पहुंचे

सड़क, बिजली पानी की मिली समस्याएं

विधानसभा की उपक्रम समिति के सदस्य विधायको को औद्योगिक क्षेत्र उरला सिलतरा में लोगों से चर्चा करने पर सड़क, बिजली और पानी की मुख्य समस्याएं मिलीं। वरिष्ठ विधायक पूर्व मंत्री सत्यनारायण शर्मा, पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल एवं धरसींवा क्षेत्र में निरंतर सक्रिय रहने वाली क्षेत्र की विधायक अनिता योगेंद्र शर्मा ने बताया कि जो भी समस्या मिली हैं, उनके निराकरण जल्द कराने के प्रयास किए जाएंगे।

सड़क, बिजली की समस्या विकराल

धरसींवा विधायक अनिता योगेंद्र शर्मा ने बताया कि ओधोगिक क्षेत्र में इस्पात भूमि की जिम्मेदारी है कि वह सड़क बिजली, सड़कों का रखरखाव, साफ- सफाई की समुचित व्यवस्था करें। लेकिन रात्रि में अधिकांश ओद्योगिक क्षेत्र की सड़कों पर अंधेरा छाया रहता है। इसका लाभ चोर लुटेरे भी उठाते रहते हैं। उन्होंने स्वयं पूर्व में भी औद्योगिक क्षेत्रों का रात में भी जाकर देखा तो सड़कों पर अंधेरा छाया रहता है। इस्पात भूमि लिमिटेड को उन्होंने अनेक बार इस संबंध में अवगत भी कराया, लेकिन स्थिति जस की तस है।

औद्योगिक क्षेत्रों की सड़कों की भी समुचित साफ सफाई न होने से लोगो को दिक्कत होती है। सबसे बड़ी एक और परेशानी है की औद्योगिक क्षेत्रों में आसपास के गांव के लोग आते जाते हैं, लेकिन कहीं भी चौक-चौराहों या उद्योगों के सामने शुद्ध पेयजल की व्यवस्था नही कि किसी को प्यास लगे, तो उसे आसपास पानी मिल सके। इस ओर उद्योगों ओर इस्पात भूमि लिमिटेड को विशेष ध्यान देना होगा।

हरियाली देख गदगद हुए सत्यनारायण

वैसे तो हमारा भारत कृषि प्रधान देश है और हरित क्रांति भी भारत में ही चली। हरे भरे खेत हों या हरे भरे वन उपवन, इन्हें देखते ही मन प्रसन्न हो जाता है और एक अलग ही ऊर्जा शरीर को मिलती है। ऐसे में जब किसी भारी प्रदूषण से घिरे औद्योगिक क्षेत्र में यदि हरियाली नजर आ जाए, तो फिर किसका मन गदगद नहीं होगा ऐसा ही कुछ देखने को मिला।

विधानसभा उपक्रम समिति के आकस्मिक दौरे के दौरान जब विधायको की समिति सांकरा स्थित जायसवाल निको स्टील प्लांट पहुंची और फैक्ट्री के अंदर का नजारा देखा तो सभी का मन गदगद हो गया। वरिष्ठ विधायक पूर्व मंत्री सत्यनारायण शर्मा तो हरियाली देखकर इतने प्रसन्न हुए कि मुक्तकंठ से फैक्ट्री की तारीफ करने में भी पीछे नहीं रहे। विधायक सत्यनारायण शर्मा ने कहा कि जायसवाल निको स्टील प्लांट ने फैक्ट्री के अंदर जिस सुंदर तरीके से प्लांटेशन किया वह तारीफ के काबिल है। जरूरत है अन्य सभी उधोग इससे प्रेरणा लें और इसी तरह प्लांटेशन भी करें क्योकि पेड़ पौधे हैं तो ही हम हैं। मानव जीवन में वृक्षों का बहुत महत्व है।