मार्कशीट की त्रुटि बनी बड़ी समस्या, हर साल हजार शिकायतें आ रही हैं सामने

Whatsapp

रायपुर: पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय रायपुर में मार्कशीट में त्रुटि छात्रों के साथ ही विश्वविद्यालय के लिए भी बड़ी समस्या बन गई है। मार्कशीट में त्रुटि सुधार के लिए हर साल 1000 से अधिक आवेदन आते हैं। इसमें छात्रों के नाम के साथ ही पिता या माता के नाम में त्रुटि, जन्म तिथि, पता या अन्य विषयों गलतियां सामने आती हैं। अधिकारियों ने बताया कि दाखिले या परीक्षा फार्म में आवेदन के दौरान छात्रों द्वारा ध्यान नहीं दिया जाता।

बहुत से छात्र दूसरों लोगों से अपने फार्म भराते हैं, जो उनके नाम, पिता या माता के नाम के साथ ही जन्मतिथि आदि गलत भर देते हैं। फार्म को जमा करने के दौरान भी छात्र जल्दबाजी में उन गलतियों पर ध्यान नहीं देते हैं या फार्म भरने के दौरान दी गई जानकारियों को ध्यान से नहीं पढ़ते हैं। कई बार राइटिंग गंदी होने के कारण नाम की वर्तनी में गलती हो जाती है। इन सभी कारणों से होने वाली गलतियां का पता छात्रों को मार्कशीट आने के बाद पता चलता है।

रविवि के अधिकारियों ने कहा कि फार्म भरने के दौरान संबंधित भरी गई जानकारियों को दोबारा जांचना बेहद जरूरी होता है। नियम के मुताबिक, मार्कशीट जारी होने के 30 दिनों के भीतर त्रुटि सुधार के लिए आवेदन करने पर प्रक्रिया निश्शुल्क की जाती है। वहीं, तय समय अवधि के बाद आवेदन करने पर प्रति मार्कशीट में सुधार के लिए 120 रुपये का शुल्क देना पड़ता है। प्रक्रिया में अधिकतम 15 दिन का समय लगता है। लगातार बढ़ते मामलों की वजह से विश्विद्यालय को भी मुश्किल उठानी पड़ती है।