पत्नी के अस्पताल जाते ही सामान समेटकर लक्जरी कारों से भाग गया कालोनाइजर

Whatsapp

इंदौर। तलाक में नाकाम कॉलोनाइजर संतोषसिंह पत्नी के घर आते ही गायब हो गया। सीसीटीवी फुटेज से खुलासा हुआ संतोष दो लक्जरी कारों में आठ बैग भरकर सामान ले गया है। पत्नी ने एमआइजी थाना में मौखिक शिकायत दर्ज करवाई है। पुलिस ने दोनों पक्षों के विरुद्ध इश्तगाशा पेश कर विवाद न करने की हिदायत दी है।

बायपास की एक टाउनशिप के डायरेक्टर संतोषसिंह (अनुपनगर) पर सोमवार को पत्नी मनीषासिंह की शिकायत पर अदमचेक काटा था। मंगलवार दोपहर पुलिस मनीषा को मेडिकल के लिए एमवाय अस्पताल ले गई। थोड़ी देर बाद संतोष ड्राइवर बबलू के साथ दो कारों से घर पहुंचा और सामान लेकर रवाना हो गया। मनीषा के मुताबिक सीसीटीवी फुटेज देखने पर पता चला उसने कार में आठ बैग रखे थे। इसके बाद उसने फेसबुक पर मैसेज पोस्ट किए। एसआइ सुरेंद्रसिंह के मुताबिक पति-पत्नी का आपसी मामला है। दोबारा विवाद न हो इसलिए 107 (16) के तहत इश्तगासा पेश कर बाउंड ओवर कर दिया है। बाउंड ओवर का उल्लंघन करने पर दोनों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

पत्नी-बेटे को कमरे में सहायकों की तरह खड़ा रखता था

मनीषा का आरोप है? कि संतोष ने कभी घर का सदस्य ही नहीं समझा। उससे बात करने के लिए भी मैसेज व कॉल कर टाइम लेना पड़ता था। उन्हें कमरे में सहायकों की तरह खड़ाकर फटकारता था। अलग रहने के दौरान भी संतोष ने उनकी परवाह नहीं की। कई बार मैसेज व ई-मेल कर खर्चा, किराया मांगा लेकिन जवाब ही नहीं आया। तलाक की अर्जी खारिज होने पर वह घर लौटी तो सबकुछ बदला हुआ था। कीमती कपड़े गायब थे और मंदिर, रसोई से भी सामान गायब था।

संतोष अब बच्चे से बदला लेना चाहता है। 22 साल का बेटे से वह मां (मनीषा) की मदद करने से नाराज है। उसने कहा तुझे ऐसे केस में फंसाऊंगा कि कभी जमानत ही नहीं होगी। कभी-कभी तो बेटे का डीएनए टेस्ट करवाने पर अड़ जाता है। पिता की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। यह सोच कर बेटा नजरअंदाज करता था।