एस जयशंकर बोले, भारत अफगानिस्तान के हालात पर बनाए है नजर, हिंदू और सिख समुदाय के नेता हैं सीधे संपर्क में

Whatsapp

नई दिल्ली। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने मंगलवार को कहा कि काबुल के तालिबान के कब्जे में आने के बाद भारत अफगानिस्तान में स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहा है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार काबुल में रह रहे अपने नागरिकों व सिख और हिंदू समुदाय के नेताओं के सीधे संपर्क में है।

ट्वीट्स की एक श्रृंखला में विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा कि काबुल में स्थिति की लगातार निगरानी की जा रही है। भारत लौटने के इच्छुक लोगों की चिंता को समझा जा रहा है। हवाई अड्डे का संचालन मुख्य चुनौती है। इस संबंध में भागीदारों के साथ चर्चा की गई है। उन्होंने कहा कि हम काबुल में सिख और हिंदू समुदाय के नेताओं के साथ लगातार संपर्क में हैं। उनकी देख रेख व सुरक्षित निकाले जाने को लेकर हमारी प्राथमिकता बनी हुई।

भारतीय विदेश मंत्रालय ने जारी की हेल्पलाइन

अफगानिस्तान में बिगड़ते हालातों के बीच भारतीय विदेश मंत्रालय ने हेल्पलाइन नंबर भी जारी की है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने सोमवार को हेल्पलाइन नंबर +919717785379 जारी किया था। इसके  साथ-साथ ईमेल आइडी [email protected] भी जारी की गई। इन दोनों के माध्यम से ही भारत के लोग अफगान में अपने करीबियों की हाल खबर ले सकते हैं व जानकारी दे सकते हैं।

बता दें कि तालिबान ने रविवार को काबुल में प्रवेश करने के साथ ही राष्ट्रपति भवन पर कब्जा कर लिया। अफगानिस्तान की स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) ने सोमवार को अफगान के हालातों पर एक बैठक का आयोजन किया। यूएनएससी के अध्यक्ष टीएस तिरुमूर्ति ने कहा कि सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने अफगानिस्तान में हिंसा को तत्काल समाप्त करने, सुरक्षा, नागरिक और संवैधानिक व्यवस्था की बहाली का आह्वान किया है।

गौरतलब है कि अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद से वहां अफरा-तफरी मची हुई है। काबुल एयर पोर्ट के कई वीडियो सामने आए हैं, जहां लोगों में भगदड़ मची हुई है। एक वीडियो में देखा गया कि लोग रवने पर एक हवाई जहाज के पीछे भाग रहे हैं।