अमेरिका: PM मोदी ने दौरे के पहले ही दिन ऊर्जा क्षेत्र में की बड़ी डील

Whatsapp

ह्यूस्टनः भारत और अमेरिकी कंपनीयों के बीच उर्जा के क्षेत्र में रविवार को एक समझौता हुआ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इस समझौते पर हस्ताक्षर के दौरान मौजूद थे। उन्होंने ट्वीट कर बताया कि टेलुरियन और पेट्रोनेट एलएनजी के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए जाने का गवाह बना। भारतीय पेट्रोलियम कंपनी पेट्रोनेट ने यहां अमेरिका की प्राकृतिक गैस (एलएनजी) कंपनी टेलुरियन से 50 लाख टन एलएनजी प्रति वर्ष आयात करने के समझौते पर हस्ताक्षर किए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को 7 दिन के दौरे पर अमेरिका पहुचें। उनके यहां पहुंचने के बाद विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट कर बताया कि मोदी ने ऊर्जा क्षेत्र के शीर्ष मुख्य कार्यकारी अधिकारीयों के साथ सार्थक मुलकात की है।

मोदी ने हूस्टन में ऊर्जा क्षेत्र की कंपनियों के शीर्ष अधिकारीयों के साथ सार्थक बातचीत की है। उन्होंने ऊर्जा सुरक्षा और दोनों देशों में आपसी निवेश के मौकों को बढ़ावा देने के लिए साथ में काम करने के मुद्दे पर भी बातचीत की है। मोदी के शनिवार को यहां पहुंचने पर भव्य स्वागत हुआ। इस मौके पर प्रमुख ऊर्जा क्षेत्र की कंपनियों जैसे बीपी, एक्सॉन मोबिल, स्क्लूमबरजर, बेकर ह्यूजेस, विंमर इंटरनेशनल, चेनियर एनर्जी, डोमिनियन एनर्जी, आईएचएस माकिर्ट और एमर्सन इलेक्ट्रिक कंपनी के शीर्ष प्रतिनिधि और मुख्य कार्यकारी अधिकारी मौजूद थे। इसके अलावा भारत में अमेरिका के राजदूत केन जस्टर भी इस मौके पर मौजूद थे।

मोदी के साथ विदेश मंत्री डॉ. एस. जशंकर, विदेश सचिव अजय गोखले और अमेरिका में भारत के राजदूत हर्षवर्धन श्रृंगला भी यहां आए हैं। मोदी ने अपने पहले ट्वीट में कहा, ‘‘यहां ह्यूस्टन में एक चमकदार दोपहर है। इस गतिशील और ऊर्जावान शहर में कार्यक्रमों की एक विस्तृत श्रृंखला की प्रतीक्षा कर रहा हूं। गौरतलब है कि मोदी ने भारत में ऊर्जा क्षेत्र में प्राकृतिक गैस के भंडार को आने वाले वर्षों में15 प्रतिशत तक ले जाने का लक्ष्य तय किया है जो वर्तमान में लगभग 6.5 फीसदी है। मई 2019 में दूसरी बार देश के प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी की यह पहली अमेरिका यात्रा है। उल्लेखनीय है कि भारत पहले एलएनजी के लिए केवल कतर पर निर्भर था।