भोपाल से हनी ट्रेप मामले में 4 महिलाएं गिरफ्तार, कई मंत्री-अफसर हो चुके शिकार

Whatsapp

भोपाल: मध्य प्रदेश की इंटेलिजेंस पुलिस ने इंदौर के हनी ट्रैप मामले में बुधवार देर शाम राजधानी भोपाल से चार महिलाओं को गिरफ्तार किया है। ये महिलाएं कथित तौर पर राजनेताओं और उच्च रैंकिंग वाले सरकारी अधिकारियों का वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करती थीं। तीनों महिलाओं को इंदौर पुलिस को सौंप दिया गया है। फिलहाल उनकी पहचान का खुलासा नहीं किया गया है। संबंधित मामले में पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर पूछताछ शुरु कर दी है। पूछताछ में कई खुलासे होने की संभावना है।

इंदौर पुलिस के अनुसार, एक वरिष्ठ सरकारी इंजीनियर की शिकायत पर पहली बार पलासिया पुलिस स्टेशन में ब्लैकमेलिंग का केस दर्ज किया गया था। इसमें एक महिला पर आरोप था कि वह उससे दोस्ती करने के बाद उसे ब्लैकमेल कर रही थी। वहीं महिला कुछ रिकॉर्डिंग भी कर रही थी जिसमें वह फंस गई थी। प्रारंभिक जांच के बाद मामला इंदौर क्राइम ब्रांच को सौंप दिया गया, जिसने राज्य एटीएस को एक बड़े रैकेट के बारे में बताया। मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच शुरु हुई और इनके गिरोह का पर्दाफाश हुआ।

बताया जा रहा है कि एटीएस टीम ने भोपाल पुलिस के सहयोग से रिवेयरा टाउन और मीनाल रेजीडेंसी स्थित दो घरों में छापेमारी कर चार महिलाओं को हिरासत में लिया है। इन महिलाओं के परिजन भी साथ हैं, उनके सामने उनसे पूछताछ की जा रही है। चारों महिलाओं का हनीट्रैपिंग के हाईप्रोफाइल रैकेट से जुड़ा होना बताया जा रहा है।
वे यहां एक पूर्व मंत्री के घर में किराए पर रह रही थी। जिन महिलाओं को हिरासत में लिया गया है, उनमें से एक का कुछ समय पहले वीडियो वायरल हुआ था। बताया जा रहा है कि युवतियों के मोबाइल फोन से बड़े पैमाने पर आपत्तिजनक वीडियो और डेटा मिला है। वीडियो की जांच की जा रही है। वीडियो को देखकर अंदाजा लगाया जा रहा है कि गिरोह के लोग हाई प्रोफ़ायल लोगों को ब्लैकमेल कर चुकी हैं।