हार के बाद बड़े नेताओं से नाराज राहुल गांधी, कांग्रेस ने कहा- सब फर्जी है

Whatsapp

नई दिल्लीः कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के इस्तीफे पर अड़े होने चलते शनिवार

हिंदी फिल्म दंगल से फेम एक्ट्रेस और नेशनल अवॉर्ड विनर जायरा वसीम का नाम बॉलीवुड की टैलेंटेड अभिनेत्रियों में भी शुमार हैं। जायरा वसीम की बहुत कम समय में बड़ी फैन फॉलोइंग बन गई है। फिल्म दंगल और सीक्रेट सुपरस्टार में जायरा की दमदार एक्टिंग ने फैंस के दिलों में खास जगह बनाई लेकिन अब जो खबर सामने आई है उसे जानकर शायद आप भी थोड़ा चकरा ही जाएँ।

यहां आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, जायरा वसीम ने एक्टिंग छोड़ने का ऐलान किया जिसे जान हर कोई हैरान है। जायरा वसीम के बॉलीवुड को अचानक अलविदा कह देने पर तमाम सितारों समेत उनके फैन्स को झटका दिया है।

हाल ही में जायरा वसीम ने अपने सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर एक इमोशनल नोट पोस्ट कर के बॉलीवुड इंडस्ट्री छोड़ने का ऐलान किया है। जायरा ने अपने पोस्ट में बताया है कि 5 साल पहले उनके बॉलीवुड में कदम रखने के फैसले ने किस तरह उनकी लाइफ को बदल दिया है उनको जो भी पहचान मिली है वो उससे बहुत खुश हैं। फिल्म इंडस्ट्री से जुड़ने के बाद उन्हें लोगों का काफी प्यार और सपोर्ट मिला है लेकिन जायरा का मानना है कि एक्ट्रेस बनने की वजह से वो अपने इस्लाम धर्म से दूर होती जा रही हैं।

जायरा के पोस्ट में उनका दर्द साफ झलक रहा है। उन्होंने अपने पोस्ट के जरिए बताया कि पांच सालों से वो किस तरह अपनी अत्मा से लड़ रही हैं। एक कामयाब पहचान मिलने के बाद भी वो खुश नहीं हैं लेकिन ये वो पहचान नहीं है जो वो अपनी जिंदगी से चाहती हैं और इस बात का उन्हें एहसास हो गया है।

जायरा ने अपनी पोस्ट में साफ साफ शब्दों में बताया है कि लंबे समय से उन्हें ऐसा लगा रहा है कि वो कुछ और ही बनने की जद्दोजहद कर रही हैं लेकिन उन्हें एहसास हो गया है कि उनकी नई लाइफस्टाइल, फेम और कल्चर में वो खुद को फिट तो कर सकती हैं, लेकिन वो इस प्लेटफ़ॉर्म के लिए नहीं बनी हैं।

जायरा को लगता है कि फिल्म इंड्स्ट्री से जुड़ने पर वो अपने धर्म इस्लाम से दूर होती जा रही हैं लेकिन वो बीते कुछ समय से खुद को समझाने की कोशिश कर रही थीं कि वो जो कर रही हैं वो सब सही है लेकिन उन्हें आखिरकार समझ आ गया है कि अपने धर्म इस्लाम की बताई हुई राह पर चलने में वो एक बार नहीं बल्कि 100 बार असफल रहीं हैं।

जायरा ने अपने पोस्ट में यह भी बताया कि वो अपनी छोटी से जिंदगी में इतनी लंबी लड़ाई नहीं लड़ पा रही हैं और वो बहुत सोच समझकर बॉलीवुड को अलविदा कहने का फैसला ले रही हैं।

को पार्टी के कई और नेताओं ने अपना समर्थन जताते हुए अपने पदों से इस्तीफा दिया। इससे पहले शुक्रवार को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के कई सचिवों, कई राज्य इकाइयों के पदाधिकारियों और युवा कांग्रेस एवं महिला कांग्रेस के कई पदाधिकारियों ने इस्तीफे दे दिए अथवा इस्तीफे की पेशकश की। वहीं कांग्रेस ने राहुल गांधी की नााजगी वाली खबरों को फर्जी बताया है। कांग्रेस ने मीडिया में आई उन खबरों का खंडन किया जिनमें राहुल ने कई बड़े नेताओं द्वारा हार की जिम्मेदारी नहीं लेने और अपने पदों पर बने रहने की बात कही थी और नाराजगी जताई थी।

कांग्रेस ने कहा कि राहुल ने ऐसा कुछ नहीं कहा है, यह सब फर्जी है। हालांकि राहुल की इस नाराजगी के बाद से ही कई नेताओं का इस्तीफा देने का सिलसिला जारी है। शनिवार को पार्टी के किसान प्रकोष्ठ के प्रमुख नाना पटोले ने गांधी को अपना इस्तीफा भेजा और अपने तहत संगठन को भंग कर दिया। उधर, पार्टी के छत्तीसगढ़ प्रभारी पीएल पुनिया ने भी गांधी के प्रति समर्थन जताते हुए इस्तीफे की पेशकश की है। कांग्रेस के सचिव और राजस्थान के सह प्रभारी तरुण कुमार ने भी इस्तीफा दिया है। प्रताप सिंह बाजवा ने पार्टी के विदेश मामलों के उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है। कई और लोगों के भी इस्तीफे की खबर है। दिल्ली कांग्रेस के नेता राजेश लिलोठिया, युवा कांग्रेस और महिला कांग्रेस के कुछ पदाधिकारियों ने गांधी के समर्थन में इस्तीफा देने को लेकर हस्ताक्षर मुहिम शुरू की है।

सूत्रों के मुताबिक इस पर कई पदाधिकारियों ने हस्ताक्षर किए हैं जिनमें ज्यादातर कनिष्ठ लोग शामिल हैं। उल्लेखनीय है कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के बाद 25 मई को हुई पार्टी कार्य समिति की बैठक में राहुल गांधी ने अध्यक्ष पद से इस्तीफे की पेशकश की थी। हालांकि कार्य समिति के सदस्यों ने उनकी पेशकश को खारिज करते हुए उन्हें आमूलचूल बदलाव के लिए अधिकृत किया था। इसके बाद से गांधी लगातार इस्तीफे की पेशकश पर अड़े हुए हैं। हालांकि पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं ने उनसे आग्रह किया है कि वह कांग्रेस का नेतृत्व करते रहें।