बारिश का कहर: चित्तौड़गढ़ के स्‍कूल में 24 घंटों से फंसे हैं 400 बच्चे और शिक्षक

Whatsapp

चित्तौड़गढ़. राजस्थान (Rajasthan) के कई इलाकों में हो रही भारी बारिश (Heavy rain) ने चित्तौड़गढ़ जिले (Chittorgarh ) में करीब 400 स्कूली बच्चों और शिक्षकों की सांसें अटका रखी है. जिले के रावतभाटा (Rawatbhata) उपखंड में भैंसरोडगढ़ इलाके के एक निजी स्कूल में 350 से अधिक छात्र और 50 शिक्षक बीते 24 घंटों से वहां फंसे (Stuck) हुए हैं. जिला प्रशासन (District Administration) इन तक पहुंचने में विफल रहा है. स्थानीय स्तर पर ग्रामीण इन बच्चों और स्कूल स्टाफ की मदद कर रहे हैं.

राणाप्रताप सागर बांध के गेट खोलने से बिगड़े हालात
जिला मुख्यालय से करीब 150 किलोमीटर दूर भैंसरोडगढ़ उपखंड मुख्यालय के पास मऊपुरा में स्थित आदर्श विधा मंदिर में हर दिन की भांति शनिवार को भी बच्चे पढ़ने के लिए पहुंचे थे. उसके बाद कुछ बच्चे एक कार्यक्रम में भाग लेने भी विद्यालय आ गए. उसके बाद इलाके में मूसलाधार बारिश बारिश शुरू हो गई. इसके चलते पानी की की मात्रा बढ़ने के के कारण राणाप्रताप सागर बांध के गेट खोल दिए गए. इससे रावतभाटा और भैंसरोडगढ़ को जोड़ने वाली पुलिया पर पानी भर गया. पुलिया अभी भी डूबी हुई है. ऐसे में ये स्कूली बच्चे और शिक्षक स्कूल में ही फंसे हुए हैं.

ग्रामीण कर रहे हैं भोजन-पानी की व्यवस्थाग्रामीण उनके लिए भोजन-पानी की व्यवस्था कर रहे हैं. प्रशासनिक अमला अभी तक मौके पर नहीं पहुंच सका है. प्रशासन द्वारा बिना कोई अलर्ट दिए ही राणाप्रताप सागर बांध के गेट खोल दिए गए थे. स्कूली बच्चों और शिक्षकों ने ग्रामीणों के भरोसे ही वहां रात गुजारी है. भोजन-पानी लिए वे ग्रामीणों पर आश्रित हैं. वहीं तेज बारिश के चलते इस इलाके में बिजली और पेयजल की आपूर्ति भी ठप है. एक तरफ बच्चे और शिक्षक स्कूल में परेशान हो रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ उनके परिजनों की की चिंताएं लगातार बढ़ रही हैं.