सज्जन सिंह वर्मा, प्रदेश में लाल ईंट होगी प्रतिबंध, CSR फंड की जांच

Whatsapp

सिंगरौली: पूरे मध्यप्रदेश में जल्दी ही लाल ईंटों पर प्रतिबंध लग सकता है और फ्लाई ऐश से बने ईट से प्रदेश में घर बनने चाहिए जिससे फ्लाई ऐस का पूरा उपयोग हो पायेगा। यह कहना है प्रदेश के पर्यावरण एवं पीडब्ल्यूडी मंत्री सज्जन सिंह वर्मा का। असल में सज्जन सिंह वर्मा फ्लाई ऐस के संधारण और संभावना पर आयोजित कार्यशाला में शामिल होने के लिए सिंगरौली पहुंचे थे।

जहां पर सज्जन सिंह वर्मा ने साफ किया कि पूरे प्रदेश में लाल ईट पर प्रतिबंधित होनी चाहिए, क्योंकि फ्लाई एस के संधारण के लिए यह आवश्यक है। इस मामले में पर्यावरण मंत्री ने साफ कहा कि मुख्यमंत्री से मिलकर और यहां जो विचार आए हैं उनके तहत एक योजना बनाई जाएगी। उस योजना के तहत लाल ईट के उपयोग और ऐस से बने ईटों के उपयोग पर चर्चा की जाएगी। इसके अलावा कंपनियों के सीएसआर फंड पर भी मंत्री ने सवाल उठाएं हैं। उनका साफ कहना था कि सीएसआर फंड कहां खर्च हो रहा है, इसका कोई हिसाब नहीं है। इसकी भी जांच होनी चाहिए। चुटकुले अंदाज में पीडब्ल्यूडी मंत्री ने यह भी कहा कि प्रदेश में या देश में सिस्टम काम करता है। सिस्टम पूरे काम को प्रभावित कर रहा है मेरे मंत्री रहते सिस्टम में काम करने वाले अधिकारी नौकरी नहीं कर पाएंगे।