केजरीवाल फिर लाए दिल्ली में ऑड-ईवन, गडकरी बोले- इसकी जरूरत नहीं थी

Whatsapp

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को रोकने के लिए केजरीवाल सरकार ने बड़ा फैसला लिया है।  दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने शुक्रवार को ऐलान किया कि दिल्ली में 4 नवंबर से लेकर 15 नवंबर तक ऑड-इवेन नियम लागू होगा। माना जा रहा है कि प्रदूषण को ध्यान में रखते हुए केजरीवाल सरकार ने यह फैसला लिया है।

PunjabKesari
केजरीवाल ने कहा कि जाड़े के दौरान पड़ोसी राज्यों में पराली जलाने से होने वाले वायु प्रदूषण के उच्च स्तर से निपटने के लिए यह कदम उठाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने इस प्रदूषण से निपटने के लिए सात सूत्री कार्य योजना का उल्लेख किया। इसके तहत लोगों को मास्क बांटे जाएंगे, सड़कों की सफाई मशीनों की मदद से होगी, पेड़ लगाए जाएंगे और शहर में प्रदूषण से सबसे ज्यादा प्रभावित 12 जगहों के लिए विशेष योजना भी इसमें शामिल है।
इस योजना के तहत एक दिन ऐसे वाहन चलेंगे जिनकी नम्बर प्लेट के नम्बरों की आखिरी संख्या सम होगी। अगले दिन वह वाहन चलेंगे जिनकी नम्बर प्लेट के नम्बरों की आखिरी संख्या विषम होगी।

दीपावली पर पटाखे न जलाने की अपील
सीएम केजरीवाल ने दीपावली पर लोगों से पटाखे न चलाने की अपील करते हुए कहा कि दीपावली पर पटाखों की वजह से समस्या होती है। दिल्ली के लोगों को पटाखे न चलाने के लिए कहेंगे। इसकी जगह छोटी दीपावली के दिन बडा लेज़र शो रखेंगे। जिसमें सभी दि्लली के लोगों को बुलायेंगे। जिसके बाद पटाखे जलाने की ज़रूरत नही होगी।

PunjabKesari

दिल्ली सरकार के फैसले पर गडकरी का आया बयान
वहीं जब दिल्ली सरकार के इस फैसले पर केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से बात की गई तो उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लगता इसकी जरूरत थी। हमने जो रिंग रोड बनाया है उससे दिल्ली का प्रदूषण काफी ज्यादा कम हो गया है। हमारी जो आगे की योजना है उससे अगले 2 सालों में दिल्ली प्रदूषण मुक्त हो जाएगी।