तिहाड़ जेल में करवटें बदलते बीती चिदम्बरम की रात

Whatsapp

नई दिल्ली: पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम का नया ठिकाना एशिया की सबसे बड़ी जेल के तौर पर पहचान रखने वाली तिहाड़ जेल है जहां उन्होंने वीरवार को पहली रात काटी और शुक्रवार को अपने दिन की शुरुआत अहाते में टहलकर तथा चाय और दलिए के हल्के नाश्ते के साथ की। सूत्रों ने बताया कि वह वीरवार रात ज्यादा सो नहीं सके और रातभर करवटें बदलते रहे। सुबह जेल के अहाते में टहलकर और कुछ धार्मिक ग्रंथ पढऩे के बाद छह बजे चाय, दलिए और दूध का हल्का नाश्ता किया। उन्हें अखबार भी दिए गए। आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में एक अदालत ने उन्हें दो सप्ताह की न्यायिक हिरासत में भेजा है।
जेल के अधिकारियों ने बताया कि कांग्रेस नेता को अलग कोठरी और वेस्टर्न शौचालय के अलावा कोई विशेष सुविधाएं नहीं मिलेगी। ये विशेष सुविधाएं उन्हें उनके अनुरोध पर अदालत ने दी हैं। अपने साथ चश्मा व दवाएं ले जाने की अनुमति दी और निर्देश दिया कि उन्हें तिहाड़ जेल में अलग कोठरी में रखा जाए क्योंकि उन्हें जेड श्रेणी की सुरक्षा मिली हुई है। जेल के पुस्तकालय में जा सकते हैं और निश्चित अवधि के लिए टेलीविजन देख सकते हैं। जेल में यासीन मलिक, क्रिश्चियन मिशेल और दीपक तलवार अब पूर्व वित्त मंत्री के पड़ोसी कैदी हैं। चिदम्बरम का नया पता जेल नंबर 7, वार्ड नंबर 2 और सैल नं.-15 है।
चिदंबरम से मिलने पहुंचे नेता मायूस लौटे
नई दिल्ली: पूर्व गृहमंत्री व वित्त मंत्री पी.चिदम्बरम से तिहाड़ जेल में मिलने के लिए शुक्रवार की दोपहर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव वह दिल्ली के प्रभारी पीसी चाको के साथ मुकुल वासनिक, अविनाश पांडे और मानिक टैगोर तिहाड़ जेल पहुंचे, लेकिन मुलाकात करने में सफल नहीं हो सके। इन नेताओं के साथ इसके अलावा प्रदेश कांग्रेस के युवा नेता राकेश चौहान के अलावा संगठन के कई वरिष्ठ नेता भी थे। लेकिन जेल प्रशासन ने कांग्रेस के इन नेताओं को चिदम्बरम से मिलने की इजाजत नहीं दी। सभी कांग्रेसी नेता करीब आधा घंटे तक वहां खड़े होकर किसी तरह से मुलाकात करने के प्रयास में लगे रहे, लेकिन उन्हें जेल के नियमों के मुताबिक अंदर तक जाने की इजाजत नहीं दी गई।