आखिरकार मार गिराया गया जैश का शीर्ष कमांडर अफगानी, अब तक दो आतंकी ढेर

Whatsapp

जम्मू: दक्षिण कश्मीर के जिला शोपियां के रावलपोरा में पिछले तीन दिनों से जारी मुठभेड़ में आखिरकार जैश-ए-मोहम्मद के शीर्ष कमांडर विलायत लोन उर्फ सज्जाद अफगानी को मार गिराया गया। आइजीपी कश्मीर विजय कुमार ने स्वयं इसकी पुष्ट करते हुए इसे सुरक्षाबलों की बड़ी सफलता करार दिया। उन्होंने कहा कि रावलपोरा में 72 घंटों से भी अधिक समय जारी इस मुठभेड़ में अब तक दो आतंकियों को मार गिराया गया है। ऑपरेशन अभी भी जारी है।

इससे पहले गत रविवार को सुरक्षाबलों द्वारा मार गिराए गए स्थानीय आतंकी की पहचान लश्कर-ए-तैयबा के जहांगीर अहमद वानी पुत्र स्वर्गीय अब्दुल रहमान वानी निवासी रक्ख नारापोरा शोपियां के रूप में हुई है। सुरक्षाबलों के अनुसार वह सितंबर 2020 में लश्कर-ए-तैयबा में शामिल हुआ था।

आइजीपी कश्मीर विजय कुमार ने दो आतंकवादियों के मारे जाने की पुष्टि करते हुए कहा कि सज्जाद का मारा जाना सुरक्षाबलों के लिए बड़ी सफलता है। सज्जाद काफी समय से दक्षिण कश्मीर खासकर शोपियां में युवाओं को बरगलाकर संगठन में भर्ती करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा था। इलाके में फिलहाल और आतंकियों की मौजूदगी की पुष्टि के लिए सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है।

आपको बता दें कि यह मुठभेड़ शोपियां के रावलपोरा में गत शनिवार रात को शुरू हुई थी। देर रात गए तक आतंकियों को आत्मसमर्पण करवाने के लिए कई बार कहा गया। लेकिन आतंकियों की ओर से आत्मसमर्पण करने से साफ मना कर दिया। इसी बीच रविवार सुबह सुरक्षाबलों ने एक आतंकवादी को ढेर कर दिया। आतंकियों को घर से बाहर निकालने के लिए सुरक्षाबलों ने मकान को उड़ा दिया था परंतु अन्य आतंकी वहां से फरार होने में कामयाब रहे। जब सुरक्षाकर्मी आतंकियों का पीछा कर रहे थे तो इस दौरान क्षेत्र में मौजूद कुछ शरारती तत्वों ने उनके अभियान को प्रभावित करने का प्रयास भी किया परंतु सुरक्षाबलों ने उन्हें वहां से खदेड़ दिया।

इस बीच मुठभेड़ स्थल से बरामद हथियारों ने सुरक्षाबलों को सकते में डाल दिया है। मारे गए दोनों आतंकियों से एक एके 47, अमेरिका निर्मित एम-4 राइफल, उसकी तीन मैगजीन, 36 राउंड और करीब 9600 नकदी भी बरामद हुई है। सुरक्षाबलों ने अभी अभियान समाप्त नहीं किया है। शोपियां में सर्च ऑपरेशन चल रहा है। आइजीपी ने कहा कि जब यह पुष्टि हो जाएगी कि रावलपोरा में और कोई आतंकी मौजूद नहीं है। ऑपरेशन समाप्त कर दिया जाएगा। फिलहाल दोनों आतंकियों के शवों व उनसे बरामद हथियारों को सुरक्षाबलों ने अपने कब्जे में ले लिया है।