इमरती देवी के जिले में बाल विवाह का मामला, फेरे कराने वाले पंडित सहित 11 पर केस दर्ज

Whatsapp

गुना: महिला बाल विकास मंत्री इमरती देवी के जिले गुना के फतेहगढ़ में बाल विवाह का मामला सामने आया है। इस विवाह में 8 साल के लड़के का विवाह एक 7 साल की लड़की के साथ किया गया है। खास बात यह रही कि इस शादी के कार्ड छपवाए गए और पूरा तामझाम हुआ लेकिन प्रशासन को पता ही नहीं चला। मामले का शादी ख़ुलासा तब हुआ जब दहेज के लेन-देन पर दोनों पक्षों में झगड़ा हुआ और लड़की का पिता थाने पहुंच गया।

रिति रिवाज से हुआ विवाह संपन्न
यह बाल विवाह फतेहगढ़ के मिरवाड़ा गांव में दूला-दुल्हन दोनों पक्षों की रज़ामंदी से राजी-खुशी हुआ। ये शादी गुर्जर समुदाय में की गई। शादी के कार्ड भी छपवाए गए और पूरे रीति रिवाज और रस्मों रिवाज के साथ विवाह संपन्न हुआ। पूरे गांव को विवाह का न्यौता दिया गया लेकिन प्रशासन को इसकी कानों कान खबर नहीं हुई।
मामले का खुलासा उस वक्त हुआ जब मासूम बच्ची के पिता ने पुलिस अधीक्षक कार्यालय में पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई। क्योंकि शादी के बाद दोनों पक्षों में दहेज के लेन देन को लेकर झगड़ा हो गया था।

पिता ने खोली पोल
गुस्से में आकर लड़की के पिता ने फतेह गढ़ थाना में शिकायत कर दी। उसके बाद पुलिस एक्शन में आई और उसने 4 महिलाओं और 7 पुरुषों के ख़िलाफ मामला दर्ज किया गया। फेरे करवाने वाले पंडित को भी केस दर्ज किया गया। सारे मामले में बाल विवाह अधिनियम के तहत कुल 11 लोगों के ख़िलाफ मामला दर्ज किया गया।
6 लोग गिरफ़्तार
मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने आनन- फानन में 6 आरोपियों को गिरफ्तार करके न्यायालय में पेश किया,जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।