महाशिवरात्रि पर विश्व के सबसे बड़े शिवलिंग के दर्शन को उमड़े श्रद्धालु

Whatsapp

रायसेन। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के नजदीक रायसेन जिला की सीमा में भोजपुर के प्रसिद्ध व प्राचीन शिवमंदिर पर गुरुवार को सुबह से ही श्रद्धालुओं की कतार लग गई है। महाशिवरात्रि पर्व पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु शिवलिंग की पूजा-अर्चना करने पहुंच रहे हैं। गौरतलब है कि राजा भोज ने भोजपुर में 10वीं शताब्दी में भगवान शिव का विशाल मंदिर बनवाया था। यह मंदिर 106 फीट लंबा, 77 फीट चौड़ा व 17 फीट ऊंचे चबूतरे पर निर्मित है। मंदिर के गर्भगृह में 40 फीट ऊंचे चार स्तंभ हैं। यहां 22 फीट ऊंचा एक ही पत्थर से निर्मित शिवलिंग है, जो कि दुनिया का सबसे बड़ा प्राचीन शिवलिंग माना जाता है

इस शिवलिंग को विश्व संरक्षित धरोहर में शामिल करने के लिए पुरातत्व विभाग की ओर से प्रस्ताव बनाया गया है। प्राचीनता, भव्यता, पुरात्वीय महत्व और दैवीय अनुभूति के चलते यहां लाखों श्रद्धालु वर्षभर में आते हैं। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग व संस्कृति एवं पर्यटन विभाग की ओर से यहां कार्यक्रम आयोजित होते हैं। गुरुवार शाम से मप्र पर्यटन व संस्कृति मंत्रालय की ओर से यहां तीन दिवसीय भोजपुर महोत्सव आरंभ हो रहा है। जिसका शुभारंभ शाम 7 बजे मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री डा. प्रभुराम चौधरी करेंगे।

एसडीएम अनिल जैन ने बताया कि महोत्सव के पहले दिन मुंबई ग्रुप के वैभव आरेकर एवं ग्रुप द्वारा भरतनाट्यम समूह नृत्य प्रस्तुत किया जाएगा। इसके अलावा मुंबई के ही विष्णु मिश्रा एवं उनके साथी द्वारा भक्ति संगीत प्रस्तुत किया जाएगा। कार्यक्रम शाम 7 बजे से आयोजित किया जाएगा। दूसरे दिन शुक्रवार को भोपाल के फूल सिंह मांडरे एवं उनके सहयोगी द्वारा लोक गायन की प्रस्तुति दी जाएगी। भोपाल की गायक आकृति मेहरा का गायन एवं उज्जैन की कृष्णा वर्मा मटकी नृत्य प्रस्तुत करेंगी। इसके साथ ही बुंदेलखंड सागर के आशीष श्रीवास्तव अपने सहयोगी कलाकारों के साथ अखाड़ा का प्रदर्शन करेंगे। इसी तरह महोत्सव तीसरे दिन व अंतिम दिन शनिवार को भोपाल के शुभम यादव एवं उनके सहयोगी द्वारा शिव भजनए भोपाल के संजय द्विवेदी एवं उनके ग्रुप द्वारा धुवा बैंड की प्रस्तुति, लखनऊ की शची एवं चिन्मोयी विश्वास भरतनाट्यम युगल कर दर्शकों का मनोरंजन करेंगी। इसके अलावा शिवपुरी के देशराज नरवरिया एवं उनके सहयोगी लोक गायन की प्रस्तुति देंगे।