जब दक्षिणा में पुरोहितों ने आरक्षण खत्म करने की मांग की, तो जानिए क्या बोले संघ प्रमुख मोहन भागवत

Whatsapp

पुष्कर: आरएसएस की अखिल भारतीय समन्वय बैठक में हिस्सा लेने के लिए पुष्कर पहुंचे सरसंघचालक ने बुधवार को पुष्कर सरोवर में पूजा अर्चना की। जिसके बाद पुजारियों ने दक्षिणा के तौर पर मोहन भागवत से देश में आरक्षण खत्म कराए जाने की मांग रख दी। पुजारियों की इस मांग से संघ प्रमुख पहले तो चौंके और फिर मामले की नजाकत को समझते हुए उन्होने पुजारियों से कहा कि, ‘पूजा-पाठ के वक्त झगड़े की बात क्यों करते हो।’

दरअसल, 18 अगस्त को नई दिल्ली में प्रतियोगी परीक्षाओं पर आधारित ज्ञान उत्सव ने छात्रों को संबोधित करते हुए भागवत ने सौहार्दपूर्ण माहौल में आरक्षण पर चर्चा करने की बात कही थी। जिसके बाद कई दलों और जाति समूहों की ओर से तीखी प्रतिक्रिया आई। इतना ही नहीं कई विपक्षी दलों ने तो इसे आरक्षण खत्म करने की साजिश बताते हुए हंगामा खड़ा कर दिया था। जिसके बाद से सरसंघचालक अब आऱक्षण को लेकर किसी भी तरह की चर्चा से बचते नजर आते हैं और यहां पुष्कर में भी मामले की नजाकत को भांपते हुए संघ प्रमुख इस मुद्दे पर किसी तरह की चर्चा से इनकार कर दिया।