बहरीनः 200 साल पुराने भगवान कृष्ण के श्रीनाथजी मंदिर में PM मोदी ने की पूजा

Whatsapp

मनामाः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बहरीन की राजधानी मनामा में भगवान श्रीकृष्ण के 200 साल पुराने मंदिर के पुनर्निर्माण के लिए 42 लाख डॉलर की परियोजना का शनिवार को शुभारंभ किया। मनामा में श्रीनाथजी (श्री कृष्ण) मंदिर का पुनर्निर्माण कार्य इस साल आरंभ किया जाएगा। मनामा स्थित इस 200 साल पुराने मंदिर का 42 लाख डॉलर की लागत से 45 हजार वर्ग फुट क्षेत्र में तीन मंजिला भवन के साथ नवीनीकरण किया जा रहा है। इसके 80 फीसदी हिस्से में कहीं अधिक श्रद्धालुओं के लिए जगह होगी।

बताया जाता है कि इस मंदिर की स्थापना 18वीं शताब्दी के दूसरे दशक में थट्टाई भाटिया हिंदू समुदाय के लोगों द्वारा की गई थी। आज भी इस समुदाय के लोग इस मंदिर की देख-रेख करते हैं। इस मंदिर में राजस्थान के उदयपुर के पास नाथद्वारा में स्थित श्रीनाथजी मंदिर के तौर तरीकों का अनुसरण किया जाता है। यहां पुष्टिमार्गीय वैष्‍णव को माना जाता है। इस मंदिर का रंग-रूप बिल्कुल राजस्थान के मेवाड़ क्षेत्र की हवेलियों की तरह लगता है। मंदिर में वहां की कला की झलक साफतौर पर दिखाई देती है। इससे पहले पीएम मोदी ने बहरीन के वली अहद सलमान बिन हमाद बिन इसा अल खलीफा से रविवार को मुलाकात की और भारत एवं बहरीन के बीच मित्रता मजबूत करने के तरीकों पर चर्चा की। दोनों देशों के नेताओं के बीच बातचीत में व्यापारिक संबंधों और सांस्कृतिक आदान-आदान पर विशेष ध्यान रहा।

प्रधानमंत्री मोदी की बहरीन की यात्रा इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि इस देश की यात्रा करने वाले वह पहले भारतीय प्रधानमंत्री हैं। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने एक ट्वीट किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बहरीन के वली अहद सलमान बिन हमाद बिन इसा अल खलीफा से मुलाकात की। उन्होंने हमारे संबंधों को और मजबूत करने को लेकर चर्चा की। मोदी ने बहरीन पहुंचने से पहले संयुक्त अरब अमीरात की यात्रा की, जहां उन्होंने अबुधाबी के शहजादे शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान से दोनों देशों के बीच व्यापारिक और सांस्कृतिक संबंधों को सुधारने के तरीकों पर शनिवार को चर्चा की। मोदी को दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका के निभाने लिए संयुक्त अबर अमीरात के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘ऑर्डर ऑफ जायेद’ से सम्मानित किया गया। मोदी बहरीन से रविवार को फ्रांस लौटेंगे जहां वह जी-7 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे।