भारत में घुसपैठ के लिए पाक के 40-50 फिदायीन तैयार, मसूद के भाई को जिम्मा

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 कमजोर किए जाने के बाद पाकिस्तान बौखला गया है। वहां की सरकार के इशारे पर काम करने वाले आतंकवादी हिन्दुस्तान को नुक्सान पहुंचाने का प्लान बना रहे हैं। पाकिस्तान के मुजफ्फराबाद में बने कंट्रोल रूम ‘88’ से जैश के आतंकियों को घुसपैठ कराई जा रही है। पाकिस्तान की खुफिया एजैंसी आई.एस.आई. और सेना ने भारत में आतंकी घुसपैठ कराने का जिम्मा किसी और को नहीं बल्किजैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के भाई रऊफ असगर को दिया है। रऊफ असगर जैश-ए-मोहम्मद का एक्टिंग चीफ है, जिसने भारत में आतंकी भेजने की जिम्मेदारी लॉन्चिंग कमांडर माविया खान को दी है।

एक खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तानी सेना और आई.एस.आई. की शह पर माविया खान, अफगानिस्तान में तालिबान के साथ ट्रेनिंग लेकर घुसपैठ के लिए पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पी.ओ.के.) आया है। अभी तक माविया खान, 40 से 50 फिदायीन को हमले के लिए तैयार कर चुका है, जिन्हें निकैल ट्रेनिंग कैंप में तैयार किया जा रहा है।

सूत्रों की मानें तो बौखलाहट में पाकिस्तान के स्पैशल सर्विस ग्रुप के कमांडो, जैश के आतंकी बॉर्डर पर मिलकर ‘बैट’ एक्शन ले सकते हैं। पाकिस्तानी सेना की नजर भारत में 40 से 50 आतंकियों को घुसाने पर टिकी है। अफगानिस्तान से ट्रेनिंग लेकर आए ये आतंकी ट्रांजिट कैंप सवाई नाला से करीब 98 किलोमीटर दूर दूधनियाल लॉन्च पैड से घुसपैठ कराने की तैयारी कर रहे हैं। घुसपैठ के लिए कुछ कोड वर्ड तैयार
किए गए हैं, जिनमें रोमियो, टैंगो-2, अल्फा और माइक जैसे नामों का इस्तेमाल किया जा रहा है। जैश का एक्टिंग चीफ रऊफ जिस कंट्रोल रूम से इस सब पर नजर बनाए हुए हैं, उसका नाम कंट्रोल रूम नंबर ‘88’ है।

गौरतलब है कि अब तक कई बार ऐसे खुलासे हो चुके हैं कि पाकिस्तान के आतंकी घुसपैठ की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन बॉर्डर पर भारतीय सेना के जवान हर उसकी इस कोशिश को नाकाम कर देते हैं।