पाक विदेश मंत्री का कबूलनामा: 370 पर कोई देश नहीं दे रहा साथ

Whatsapp

इस्लामाबाद: जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद बौखलाया पाकिस्तान ने इस मुद्दे को अंतराष्ट्रीय मंचों पर उठाने की कोशिश की लेकिन दुनिया के किसी भी देश ने उसको कोई तवज्जो नहीं दी। हर मोर्चे पर मुंह की खाने के बाद उसकी अक्ल अब ठिकाने आयी है। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने खुद स्वीकार किया है कि कश्मीर मुद्दे पर कोई भी देश उसके साथ आने को तैयार नहीं है। पाक अधिकृत कश्मीर की राजधानी मुज्जफराबाद में पत्रकारों से बातचीत में कुरैशी ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र परिषद में हमें समर्थन मिलना मुश्किल है।  कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तानी और कश्मीरियों को यह जानना चाहिए कि कोई आपके लिए नहीं खड़ा है। हमें मूर्खों के स्वर्ग में नहीं रहना चाहिए, आपको संघर्ष करना होगा। उन्होंने कहा, ‘जज्बात उभारना बहुत आसान है, मुझे दो मिनट लगेंगे। 35-36 साल से सियासत कर रहा हूं, यह मेरे लिए बाएं हाथ का काम है। जज्बात उभारना आसान है और ऐतराज जताना उससे भी आसान है, लेकिन मसले को आगे की तरफ ले जाना कठिन है।’एक सवाल के जवाब में कुरैशी ने कहा, ‘देखिए, आप जानते हैं कि दुनिया का उनके साथ अपने हित हैं। मैंने आपसे पहले ही इशारों इशारों में कह दिया कि वहां पर 1 अरब का बाजार है। वैसे तो हम उम्माह और इस्लाम की बात करते हैं, लेकिन उन्होंने वहां पर काफी निवेश कर रखा है और उनके अपने फायदे हैं’ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद पर कुरैशी ने कहा कि वे आपकी तरफ हार लेकर नहीं खड़े हैं। सुरक्षा परिषद में 5 स्थायी सदस्य हैं। उनमें से कोई भी वीटो पावर का इस्तेमाल कर सकता है, वो हमारे खिलाफ जा सकते हैं’।उल्लेखनीय है कि अनुच्छेद 370 के मुद्दे पर पाकिस्तान को किसी भी मोर्चे पर सफलता नहीं मिल रही है। अमेरिका, रूस जैसे देशों ने इसे भारत का आंतरिक मामला बताया है। इसी बौखलाहट में पाकिस्तान कश्मीर में हिंसा की झूठी खबरें फैलाने से भी बाज नहीं आ रहा है। सूत्रों ने बताया, ‘केंद्रशासित प्रदेश लद्दाख की सीमा के पार पाकिस्तान स्थित स्कर्दू इलाके में पाकिस्तान एयरफोर्स के तीन सी-130 ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट से युद्धक सामान लाए गए।’हालांकि भारतीय सेना पाकिस्तान की हरकत पर नजर रखे हुए है और किसी भी दुस्साहस का जवाब देने के लिए तैयार खड़ी है।