रिटायर्ड डिप्टी डायरेक्टर को बेटी ने बनाया था बंधक, बेटे की शिकायत के बाद हुआ रेस्क्यू

भोपाल: मध्य प्रेदश की राजधानी भोपाल में बेटी द्वारा पिता को घर में बंधक बनाकर रखने का मामला सामने आया है। दरअसल, बेटे ने जिला विधिक प्राधिकरण में अपने बुजुर्ग पिता से मिलने की गुहार लगाई थी। उसने आरोप लगाया था कि उसकी बहन ने पिता को बंधक बनाकर रखा है, और किसी को मिलने नहीं देती है। वहीं, प्राधिकरण टीम ने शनिवार को गुलमोहर निवासी बुजुर्ग के यहां पहुंची तो देखा कि उनका स्वास्थ्य ठीक नहीं था। टीम ने बुजुर्ग को हमीदिया अस्पताल में भर्ती करवाया।
दरअसल, प्राधिकरण के सचिव आशुतोष मिश्रा ने बताया कि बुजुर्ग के बेटे राजेश तिवारी ने आवेदन दिया था कि उनकी बहन ने पिता काे बंधक बनाकर रखा हुआ है। वे बीमार हैं और उनकी जान काे खतरा है। आरोप है कि उनकी बहन पूर्णिमा उर्फ मेहा तिवारी पिता से उन्हें मिलने नहीं देती। मेहा ने भाई काे न ताे पिता से मिलने दिया और ना ही उन्हें प्राधिकरण में पेश किया। दरअसल, समाज कल्याण विभाग के सेवानिवृत्त डिप्टी डायरेक्टर महेश कुमार तिवारी गुलमोहर में अपनी बेटी पूर्णिमा उर्फ मेहा तिवारी के साथ रहते हैं।
लिहाजा, इस पर सचिव आशुतोष मिश्रा ने एक कमेटी का गठन किया था। इसमें डाॅक्टर याेगेंद्र मिश्रा, जिला विधिक सहायता अधिकारी बीएम सिंह, पीएलवी आशीष तिवारी, एडवाेकेट संजू मिश्रा और शाहपुरा थाना प्रभारी आशीष भट्टाचार्य काे शामिल किया था। टीम ने मौके पर जाकर पिता से मुलाकत की। तब उनकी खराब हालत काे देखते हुए उन्हें रेस्क्यू कर हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया है। सचिव मिश्रा बताया कि उनकी मेडिकल रिपाेर्ट देखने के बाद ही निर्णय लिया जाएगा कि उन्हें कहां रखना है।