सरकारी स्कूलों में नहीं हुई एक भी एडमिशन, मजबूरन करने पड़े कई स्कूल बंद

Whatsapp

होशंगाबाद: होशंगाबाद जिले में बेशक शासकीय स्कूलों में छात्रों की संख्या बढ़ाने के लिए भले ही अभियान चलाया जा रहा हो मगर हकीकत इससे कुछ उलट ही है। जिले के सिवनी मालवा में चार शासकीय स्कूल ऐसे हैं जिनमें एक भी बच्चे का एडमिशन नहीं हुआ है। इन स्कूलों में दर्ज संख्या शून्य होने के कारण इन्हें बंद किया जा रहा है।

जिसका एक बड़ा कारण सरकारी स्कूलों में गिरता शिक्षा का स्तर माना जा रहा है। आलम यह है कि सरकारी स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या कम होने के कारण अब अभिभावकों को अपने बच्चों को निजी स्कूलों डालने मजबूर कर रहा है। जिस से  जिले में सरकारी स्कूलों की अपेक्षा निजी स्कूलों में छात्र-छात्राओं संख्या दोगुनी हो गई है

बंद किए जाने वाले स्कूलों में आगरखुर्द, बेगनिया, लोहारिया एवं चापादेवड़ी है। चारों स्कूलों में इस सत्र में एक भी एडमिशन नहीं हुआ है। जिसके चलते इस बंद किया जा रहा है। अच्छी पढ़ाई व सुविधाओं की कमी को लेकर पालकों का रुझान निजी स्कूलों की तरफ बढ़ रहा है। सरकारी स्कूलों बच्चों के प्रवेश नहीं लेने से शिक्षक चिंतित हो रहे है। जबकि इन स्कूलों में करोड़ों रुपये खर्च किए जा रहे हैं, लेकिन शिक्षा के बिगड़ते हालात में अब तक कोई सार्थक परिवर्तन नहीं आया है।

जिले के ऐसे है आंकड़े
जिले में कुल प्राथमिक शाला 1118
जिले में कुल माध्यमिक शाला  540

4 स्कूल ऐसे जहां एक भी विद्यार्थी ने एडमिशन नहीं लिया
7 स्कूल ऐसे जहां 3 से कम विद्यार्थी
45 स्कूल ऐसे जहां 10 से कम विद्यार्थी
52 स्कूल ऐसे जहां 20 से कम विद्यार्थी

सिवनी मालवा ब्लाक के ऐसे है आंकडें
ब्लाक में कुल प्राथमिक शाला 229
ब्लाक में कुल माध्यमिक शाला  110
हाई स्कूल 16
हायरसेकंडरी 14