कश्मीर के बाद अब जम्मू में बड़ा एक्शन, पूर्व मंत्री को किया नजरबंद

Whatsapp

श्रीनगरःअनुच्छेद 370 पर आए मोदी सरकार के फैसले के बाद से जम्मू कश्मीर में एक डर का माहौल सा बना हुआ है। वहीं सरकार की मानेंतो जम्मू कश्मीर में शांतिपूर्ण माहौल है, लेकिन धारा 144 होने के चलते स्कूल -कॉलेज बंद है और दुकानें भी बंद हैं, जिससे व्यापारियों को नुकसान हो रहा है। वहीं अब खर आ रही है कि जम्मू में हालातों को सामान्य रखने के लिए स्थानीय पुलिस उचित कदम उठा रही है और स्थानीय पुलिस ने जम्मू के पूर्व मंत्री व डोगरा स्वाभिमान संगठन पार्टी के अध्यक्ष चौधरी लाल सिंह को नजरबंद कर दिया है। लाल सिंह को उनके सरकारी आवास में बंद किया गया है और अब वो न तो बाहर जा सकते हैं और न ही उनसे मिलने कोई आ सकता है।

आपको बता दें कि  जम्मू और कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाने से पहले घाटी के नेताओं को नजरबंद किया गया था। इसमें महबूबा मुफ्ती, उमर अब्दुल्ला समेत अन्य नेताओं का नाम शामिल है, वहीं नेशनल कॉन्फ्रेंस के वरिष्ठ नेता फारूक अब्दुल्ला ने कहा था कि कश्मीर घाटी में लोगों को कैद किया जा रहा है। उन्होंने कहा था कि उमर अब्दुल्ला जेल में हैं। उन्होंने कहा था कि हम ग्रेनेड या पत्थर फेंकने वाले नहीं हैं। मेरा भारत सभी के लिए लोकतांत्रिक, धर्मनिरपेक्ष है, हम बदलाव के लिए शांतिपूर्ण संकल्प में विश्वास रखते हैं।

लोकसभा में कुछ सदस्यों द्वारा फारूक अब्दुल्ला की अनुपस्थिति और उनकी सुरक्षा को लेकर चिंता जताए जाने के बाद केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने मंगलवार को कहा था कि फारूक अब्दुल्ला पूरी तरह ठीक हैं और अपनी मर्जी से वहां रह रहे हैं। फारूक अब्दुल्ला न तो नजरबंद हैं और न ही उन्हें हिरासत में लिया गया है।