Article 370: संसद में अपने भाषण के बाद अब सोशल मीडिया पर हीरो बने नामग्याल, ट्वीट कर कही ये बात

Whatsapp

नई दिल्ली: जम्मू-कशमीर और आर्टिकल 370 के बाद अगर सोशल मीडिया पर इससे जुड़ा कुछ चर्चा में है तो वो है लद्दाख के भाजपा सांसद। आर्टिकल 370 मोदी सरकार और जम्मू-कश्मीर पर तो कई बाते हुई लेकिन इस बीच लद्दाख को दरकिनार कर दिया गया। और आज उसी लद्दाख से भाजपा सांसद जामयांग शेरिंग नामग्याल इस समय चर्चा के केंद्र में हैं। मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म करने एवं राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने से जुड़े विधेयक पर लोकसभा में चर्चा के दौरान लद्दाख से भाजपा सांसद जामयांग शेरिंग नामग्याल के भाषण की तारीफ की और उनकी पीठ थपथपाई।

लद्दाख से भाजपा के लोकसभा सदस्य जामयांग शेरिंग नामज्ञाल ने कांग्रेस और अन्य कुछ दलों पर इस क्षेत्र को जम्मू कश्मीर से अलग-थलग रखने और अन्याय करने का आरोप लगाया । उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 पर सरकार के फैसले से कांग्रेस की गलतियों को सुधारा जा रहा है। जम्मू कश्मीर पर गृह मंत्री अमित शाह द्वारा पेश संकल्प पर चर्चा में हिस्सा लेते हुए नामज्ञाल ने कहा कि लद्दाख दशकों से भारत का अटूट अंग बनना चाहता था और केंद्रशासित प्रदेश बनने की मांग रख रहा था, लेकिन प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और कांग्रेस ने इस मांग पर कभी सुनवाई नहीं की। वहीं नरेंद्र मोदी की सरकार ने इस सपने को आज पूरा किया है।

संसद में उनके इस भाषण के बाद सोशल मीडिया में उनको लेकर हलचल तेज हो गई और उसके बाद उन्होंने अपने अधिकारिक ट्विटर अकाउंट से ट्वीट कर एक ट्वीट किया। नामग्याल ने कहा कि मैं फेसबुक अकाउंट पर अधिक फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार नहीं कर सकता,  क्योंकि 5000 की सीमा पार हो चुकी है। तो कृपया इसे लाइक करें और मेरे आधिकारिक फेसबुक पेज से जुड़े रहें। टि्वटर पर भी इनके फॉलोवर्स की संख्या 1. 11 लाख से अधिक हो गए हैं।

Jamyang Tsering Namgyal

@MPLadakh

I cannot accept more friend request on Facebook Account as the limit of 5000 is crossed. So may please hit like and stay tuned with my official Facebook page attached here:https://www.facebook.com/JTNLadakh/ 

2,459 people are talking about this

सदन में चर्चा में हिस्सा लेते हुए नामग्याल ने कहा कि लद्दाख के लोग पिछले सात दशकों से केंद्रशासित प्रदेश के दर्जे की मांग कर रहे थे। उन्होंने कहा कि लद्दाख की भाषा, संस्कृति अगर लुप्त होती चली गयी तो इसके लिए अनुच्छेद 370 और कांग्रेस जिम्मेदार है। सत्र की कार्यवाही स्थगित होने के बाद नामग्याल प्रधानमंत्री के पास पहुंचे और फिर मोदी ने उनसे हाथ मिलाते हुए उनकी पीठ थपथपाई। इससे पहले मोदी ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘ मेरे युवा दोस्त, लद्दाख से सांसद जामयांग शेरिंग नामग्याल ने जम्मू कश्मीर पर महत्वपूर्ण विधेयकों पर चर्चा के दौरान शानदार भाषण दिया।

Narendra Modi

@narendramodi

My young friend, Jamyang Tsering Namgyal who is @MPLadakh delivered an outstanding speech in the Lok Sabha while discussing key bills on J&K. He coherently presents the aspirations of our sisters and brothers from Ladakh. It is a must hear! https://www.youtube.com/watch?v=BQGhbm7ygkY 

31.1K people are talking about this

लद्दाख के हमारे भाइयों और बहनों की आंकाक्षा को सुसंगत रूप से प्रस्तुत किया। इसे अवश्य सुना जाना चाहिए।’’ इससे पहले गृह मंत्री अमित शाह और कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी सदन में नामग्याल के भाषण की तारीफ की।

Amit Shah

@AmitShah

Excellent speech by young BJP MP, Jamyang Tsering Namgyal, representing Ladakh, the largest Lok Sabha constituency of India.

A speech full of facts that reflects aspirations of our brothers and sister from the Ladakh region. @MPLadakh

Do watch!https://www.youtube.com/watch?v=BQGhbm7ygkY 

13K people are talking about this

नामज्ञाल के भाषण के दौरान गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, महिला और बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी समेत कई केंद्रीय मंत्रियों और सत्ता पक्ष के सदस्यों को अनेक बार मेजें थपथपाते हुए देखा गया। लद्दाख के सांसद ने कहा कि आज का दिन इतिहास में प्रथम प्रधानमंत्री नेहरू के नेतृत्व में कांग्रेस द्वारा की गयी गलतियों को सुधार करने के तौर पर दर्ज किया जाएगा।

Smriti Z Irani

@smritiirani

Parliamentary Hero of the Day @MPLadakh मा ग्यला जामयांग 🙏

View image on Twitter
10.8K people are talking about this

नामज्ञाल ने कहा, ‘‘लद्दाख ने 71 साल तक केंद्रशासित प्रदेश बनने के लिए संघर्ष किया। हम हमेशा से भारत का अटूट अंग बनना चाहते थे।’’ उन्होंने कहा कि लद्दाख की भाषा, संस्कृति अगर लुप्त होती चली गयी तो इसके लिए अनुच्छेद 370 और कांग्रेस जिम्मेदार हैं।

उन्होंने कहा कि नेशनल कान्फ्रेंस के सदस्य पूछ रहे थे कि अनुच्छेद 370 हटने से क्या होगा? नामज्ञाल ने किसी का नाम लिये बिना कहा कि इससे ‘‘दो परिवारों की रोजी रोटी चली जाएगी। जबकि कश्मीर का भविष्य उज्ज्वल होने वाला है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘दो परिवार कश्मीर के मुद्दे का समाधान नहीं चाहते। वे खुद समस्या का हिस्सा बन गये हैं। वे कश्मीर को अपनी जागीर समझते हैं।’’ भाजपा सांसद ने कहा कि पहली बार भारत के इतिहास में लद्दाख की जनता की आकांक्षाओं को सुना जा रहा है।