भिंड के पास चंबल पुल पर 14 दिन में दूसरी बार हुआ गड्ढा, ट्रैफिक को किया वन-वे

Whatsapp

भिंड। ग्वालियर-इटावा नेशनल हाइवे 92 स्थित चंबल नदी पर 1976 में बना पुल खतरनाक हो गया है। पुल पर 14 दिन में दूसरी बार गड्ढा हुआ है। गुरुवार-शुक्रवार रात पुल से निकल रहे ओवरलोड वाहनों के कारण गड्ढा हो गया है।

गड्ढे की जानकारी अधिकारियों को शुक्रवार सुबह मिली। अधिकारियों ने इटावा में नेशनल हाइवे पीडब्ल्यूडी के एई सुभाषचंद्र को जानकार दी। एई का कहना है कि इस बार गड्ढे को लोहे की प्लेट रखकर बंद किया जाएगा।

गड्ढा होने का असर यह रहेगा कि ग्वालियर से वाया भिंड इटावा की दूरी 112 किमी है। बरही गांव के पास बने चंबल पुल बंद होने से ग्वालियर से इटावा जाने के लिए वाया मुरैना-आगरा होकर जाना होगा

ग्वालियर से आगरा 121 किमी और आगरा से इटावा 129 किमी है। यानी 250 किमी दूरी तय करना होगी, जो ग्वालियर वाया भिंड के रास्ते से 138 किमी ज्यादा है। ग्वालियर से इटावा, कानपुर जाने वाले वाहन मुरैना, आगरा होकर जाएंगे।

वहीं चंबल पुल के जरिए भिंड से फूफ होकर इटावा की दूरी 35 किमी है। पुल पर भारी वाहन प्रतिबंधित होने से भिंड से इटावा, आगरा और कानपुर जाने वाले सभी वाहन फूफ के भदाकुर रोड से सहसों, चकरनगर उदी चौराहा होते हुए इटावा जाएंगे। भिंड से इटावा जाने के इस वैकल्पिक मार्ग की दूरी 75 किमी है। इस तरह से भिंड से इटावा जाने में 40 किमी फेर बढ़ेगा।

इनका कहना है

चंबल पर गड्ढा हुआ है। इस बार प्लेट डालकर उसे बंद करेंगे। जिससे आगे परेशानी नहीं होे। फिलहाल पुल से वन-वे तरीके से ट्रैफिक निकाला जा रहा है। 

सुभाषचंद्र, एई पीड्ब्ल्यूडी इटावा