मुस्लिम युवकों ने नहीं बोला ‘जय श्रीराम’ तो कर दी पिटाई, पुलिस ने भी किया इनकार

Whatsapp

गोधराः गुजरात के गोधरा शहर में तीन मुस्लिम युवकों ने दावा किया है कि जय श्री राम का नारा नहीं लगाने पर कल देर रात कुछ लोगों ने उनकी पिटाई की। हालांकि इस संबंध में गोधरा ए डिवीजन थाने में मामला दर्ज कराया गया है पर पुलिस ने दावा किया है कि प्राथमिक जांच में ही यह बात साफ हो गयी है कि उनका यह इल्जाम गलत है। वर्ष 2002 के गुजरात दंगों का कारण बने साबरमती ट्रेन आगजनी कांड के लिए कुख्यात गोधरा शहर के मोहम्मदी मोहल्ले के निवासी सिद्दिक अब्दुल सलाम (40), जो पेशे से मोटरसाइकिल मैकेनिक हैं, ने इस संबंध में दर्ज प्राथमिकी में आरोप लगाया है कि उनका बेटा समीर (17) और उनके घर के पास ही रहने वाले उसे दो अन्य साथी सलमान और सोहैल कल रात साढ़े दस बजे मोटरसाइकिल से घूमने गये थे।

इसी दौरान उनके घर से लगभग एक किलोमीटर दूर बाबा की मढ़ी इलाके में दो अन्य मोटरसाइकिल पर आये छह अज्ञात युवकों ने उन्हें रोका और जय श्री राम का नारा लगाने को कहा। मना करने पर उन्हें पीटा गया। समीर को सिर में चोट आयी। बाद में शोर शराबा सुन कर भीड़ जुटने पर हमलावर भाग गये। तीनो का गोधरा सिविल अस्पताल में उपचार किया गया। सिद्दिक ने आज यूएनआई को बताया कि मुसलमानों की खासी आबादी वाले गोधरा के हिन्दू बहुल क्षेत्र में यह घटना हुई।

उधर, एसपी लीना पाटिल ने इन आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया और कहा कि यह आपसी झगड़े का मामला लगता है। उन्होंने यूएनआई से कहा कि घटना से जुड़े सीसीटीवी फुटेज पुलिस को मिले हैं जिनसे साफ हो गया है कि यह जय श्री राम का नारा लगाने को लेकर हुआ झगड़ा तो बिल्कुल भी नहीं है। फुटेज में दोनो को साथ साथ मोटरसाइकिल चलाते हुए देखा जा सकता है। वे एक दूसरे से बहस भी कर रहे हैं तथा गालियां दे रहे हैं। इस संबंध में विस्तृत जांच चल रही है पर यह साफ हो चुका है कि इसे किसी धार्मिक नारे को लेकर हुआ झगड़ा नहीं माना जा सकता।