भक्‍तों को दर्शन देने चंद्रमौलेश्वर स्वरूप में नगर भ्रमण पर निकले बाबा महाकाल

Whatsapp

उज्जैन: श्रावण महीने के दूसरे सोमवार को भगवान महाकाल की दूसरी सवारी धूमधाम से निकली। महाकाल दो रूपों में अपने भक्‍तों को दर्शन देने निकले।

राजाधिराज रजत पालकी में चंद्रमौलेश्वर तथा हाथी पर मनमहेश रूप में सवार होकर भक्तों को दर्शन देने निकले। यहां पुजारी शिप्रा तथा शिप्रा जल से भगवान महाकाल का अभिषेक कर पूजा अर्चना करेंगे।

पूजन पश्चात सवारी रामानुजकोट, गणगौर दरवाजा, कार्तिक चौक, ढाबारोड, टंकी चौराहा, छत्री चौक, गोपाल मंदिर, पटनी बाजार होते हुए पुन: मंदिर पहुंचेगी। इस यात्रा में आगे भजन मंडली नाचते गाते चल रही थी।

कोई बाबा के भजनों पर झूम रहा था तो कोई झांझ-मंजीरे बजा रहा था।भक्तों में बड़ी तादाद में महिलाए शामिल थी। जो झूमती-गाती चल रही थीं।

ऐसी मान्यता है कि जो भक्त सावन में बाबा के दर्शन के लिए मंदिर नहीं पहुंच पाते, बाबा उन्हें दर्शन देने खुद ही निकलते हैं।