इंदौर में कोरोना को लेकर प्रशासन गंभीर, कर्फ्यू तोड़ने वालों के लिए बनी अस्थाई जेल

इंदौर: अब तक प्रदेश में सबसे ज्यादा कोरोना इफेक्टिड जिला इंदौर माना गया है। जिले में हर रोज नए मरीज सामने आ रहे हैं वो भी एक दो नहीं बल्कि एक साथ 10-10। राज्य की आर्थिक राजधानी में कोरोना के बढ़ते ग्राफ का कारण कहीं न कहीं लॉकडाउन का ब्रेक होना माना जा रहा है। इसे देखते हुए अब प्रशासन ने सख्ती बरतनी शुरु कर दी है। कहीं भी कोई भी शख्स घर के बाहर बिना किसी ठोस कारण के घूमता पाया गया तो वह सीधे जेल जाएगा। इसके लिए कलेक्टर मनीष सिंह ने अस्थाई जेल बनाने के आदेश दिए हैं। इसके लिए वैष्णव विद्यापीठ विश्वविद्यालय सांवेर रोड के प्रथम तल में अस्थाई जेल बनाई गई है।
PunjabKesari

आपको बता दे कि, कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए मगलवार यानी आज से प्रशासन की ओर से ये कदम उठाए गए हैं। प्रशासन ने सब्जी खरीदने पर भी प्रतिबंध लगा दिया है। अब सब्जी खरीदने वालों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा। पुलिस की गाड़ियां शहर में घूमेंगी। जो व्यक्ति बिना काम बाहर घूमता मिलेगा, किराना की दुकान खुली रखेगा या सब्जियां बेचता मिलेगा, उसे गिरफ्तार किया जाएगा। महत्वपूर्ण बात यह है कि जो इन दुकानों या ठेलों से खरीदारी करेगा, उसे भी गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा।