इंदौर कलेक्टर की दो टूक, अफवाह फैलाने वाले पहुंचेंगे जेल, निजी अस्पतालों को भी आखिरी वार्निंग

इंदौर: कोरोना का हॉटस्पॉट बने इंदौर में कुछ असामाजिक तत्व कोरोना से जुड़ी बेतुकी जानकारियां सोशल मीडिया के जरिए फैला रहे हैं। इससे लोग पैनिक हो रहे हैं। इसे रोकने के लिए कलेक्टर मनीष सिंह एक्शन में आ गए हैं। इसे लेकर कलेक्टर ने शहर भर में ऐलान कर दिया है कि अब सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वालों को नहीं बख्शा जाएगा। यदि कोई शख्स व्हटसएप ग्रुप में ऐसा कोई गलत मैसेज डालता है तो उस ग्रुप के एडमिन के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी उसे जेल भी भेजा जा सकता है। इसके साथ ही जो निजी अस्पताल इन दिनों मदद नहीं कर रहे उनके मालिकों को भी आखिरी वार्निंग दी है।

कलेक्टर ने व्हाट्सएप ग्रुप के एडमिन के लिए आदेश जारी किया है जिसमें कहा गया है कि ग्रुप एडमिन अपने कंट्रोल में अपने ग्रुप में रखें। अन्य कोई और शख्स ग्रुप पर पोस्ट नहीं कर सकेगा। यदि कोई ऐसी लापरवाही बरती जाती है तो वह जेल जाने को तैयार रहे। इसके साथ ही शहर के निजी अस्पतालों के असहयोग पर भी कलेक्टर ने सख्ती दिखाई है। उन्होंने निजी अस्पतालों की अंतिम चेतावनी दी है और कहा है कि जो अस्पताल इस वक्त मदद नहीं करेगा वह भविष्य में अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहे। जो आज मदद नहीं करेगा उसे शहर की जनता और प्रशासन भविष्य में माफ नहीं करेगा।