जब लॉकडाऊन के दौरान बुजुर्ग के लिए ‘देवदूत’ बनकर पहुंचा पुलिसकर्मी

मुंबई: कोरोना वायरस का कहर दुनियाभर के देशों में देखने को मिल रहा है। भारत भी इस जानलेवा वायरस के संक्रमण की चपेट में है।  इस संकट को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में 21 दिन का लॉकडाउन किया हुआ है।

लॉकडाऊन के दौरान अगर कोई शख्स बाहर घूमता नजर आता है तो पुलिस उनसे सख्ती से निपटती हुई भी दिखाई देती है। इसी बीच मुंबई में हैरान कर देने वाला मामला देखने को मिला जहां 82 वर्षीय बुजुर्ग महिला का भी सामना ऐसे ही एक पुलिसकर्मी से हुआ, जिसने उनकी जरूरी दवाएं लाकर दीं।

हर किसी ने की कॉन्स्टेबल बोरसे की तारीफ 
दरअसल शामला (82) डायबीटीज से पीड़ित हैं और उनकी दवाएं खत्म हो गईं। उन्होंने बताया, ‘मैंने कॉन्स्टेबल बोरसे को फोन किया। वह हमारे इलाके में अक्सर हम जैसे बुजुर्गों का हालचाल लेने आया करते हैं। मैंने उनसे दवाएं लाने का अनुरोध किया।’ कुछ ही देर में कॉन्स्टेबल बोरसे उनके घर के सामने खड़े थे।  बुजुर्ग शामला ने उनसे कुछ पैसे भी निकालने के लिए कहा, इस पर भी बोरसे राजी हो गए और बुजुर्ग को सारा सामान लाकर दे दिया। वहीं हर कोई कॉन्स्टेबल बोरसे की तारीफ कर रहा है।