श्मशान में अंतिम क्रिया कर्म करवाने से पहले खुद को सैनिटाइज कर रहे पंडित, बताई यह वजह

कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए लोग अपने हाथों की साफ-सफाई का पूरा ध्यान रख रहे हैं जिसके कारण इन दिनों सैनिटाइजर का इस्तेमाल ज्यादा हो रहा है और इसकी मांग भी बढ़ गई है। घरों, दफ्तरों, अस्पतालों के अलावा अब श्मशान घाट में सैनिटाइजर की जरूरत पड़ रही है। दरअसल पंडित शवों का अंतिम संस्कार करने से पहले खुद को सैनिटाइज कर रहे हैं ताकि विधि-विधान शवों का अंतिम संस्कार करवा सकें। के श्मशान घाटों में इन दिनों पंडित पहले खुद को सेनेेटाइज कर रहे हैं।

शवों का अंतिम संस्कार करते समय पंडितों के हाथ में घी, तुलसी, रूई, अगरबत्ती, मिट्टी के बर्तन के साथ हैंड सैनिटाइजर भी नजर आ रहा है। त्रिपुरा के एक श्मशान घाट के पंडित ने बताया कि दिन में यहा 6 शव अंतिम संस्कार के लिए आ रहे हैैं, कई तो ऐसे आते हैं जिनका पोस्टमार्टम हुआ हो, ऐसे में अंतिम संसकार कराने से पहले शवों को हमें भी छूना पड़ता है इसलिए सावधानी के लिए खुद को सेनेटाइज कर रहे हैं।