महाराष्ट्र सरकार का सख्त फैसला, CM समेत सभी विधायकों की सैलरी में की 60 फीसदी तक कटौती

Whatsapp

मुंबई: महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना वायरस (कोविड-19) के कारण लॉकडाउन से राजस्व प्राप्ति में कमी को देखते हुए जनप्रतिनिधियों और सरकारी कर्मचारियों के वेतन में 25 से 60 प्रतिशत तक कटौती करने का आदेश दिया है। महाराष्ट्र के वित्त मंत्री अजीत पवार ने मंगलवार को यह आदेश दिया।

आदेश के अनुसार मुख्यमंत्री, विधायक और विधान परिषद सदस्यों समेत अन्य जनप्रतिनिधियों के मार्च माह के वेतन में 60 प्रतिशत तक की कटौती की जाएगी। ए और बी समूह के अधिकारियों के वेतन में 50 प्रतिशत तक कटौती होगी जबकि सी ग्रुप के कर्मचारियों का वेतन 25 प्रतिशत तक काटा जाएगा। डी समूह के वेतन में कोई कटौती नहीं होगी। इससे पहले सोमवार को तेलंगाना सरकार ने भी कर्मचारियों के वेतन में कटौती का ऐलान किया। तेलंगाना की के चंद्रशेखर राव यानी केसीआर की सरकार ने राज्य के सभी मंत्रियों, विधायकों, अधिकारियों, कर्मचारियों की सैलरी में 75 परसेंट तक की कटौती का फैसला किया है।

महाराष्ट्र से संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 225 हुई
देश में कोरोना वायरस (कोविड 19) के सर्वाधिक मामले महाराष्ट्र से सामने आये हैं जहां संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 225 हो गयी है जबकि अब तक आठ लोगों की इस महामारी से मौत हो चुकी है। राज्य में मंगलवार को कोरोना संक्रमण के पांच नए मामलों की पुष्टि होने के साथ ही पूरे देश में यह शीर्ष पर पहुंच गया। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में कोरोना संक्रमितों के सबसे अधिक मामले सामने आये हैं जहां इससे संक्रमितों की संख्या बढ़कर 89 हो गयी है। पांच नये संक्रमित मामलों में से दो पुणे के और दो बुल्धाना के हैं।

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि अब तक कोरोना संक्रमितों के सांगली में 25, ठाणे क्षेत्र में 23, नागपुर में 16, अहमदनगर में पांच, यवतमाल में चार, बुल्धाना में तीन, समारा एवं कोल्हापुर मेें दो-दो तथा औरंगाबाद, रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग, गोंडिया, जलगांव और नासिक में एक-एक मामले सामने आ चुके हैं। उन्होंने बताया कि अब तक 39 संक्रमितों को ठीक किया जा चुका है। उल्लेखनीय है कि राज्य में इस महामारी से अब तक आठ लोगों की मौत हो चुकी है जो पूरे देश में सर्वाधिक है।