उन्नति हुड्डा ने रचा इतिहास, फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय बनीं

Whatsapp

भारत की युवा शटलर उन्नति हुड्डा ने बैडमिंटन एशिया अंडर-17 और अंडर-15 जूनियर चैंपियनशिप में इतिहास रच दिया। वह इस टूर्नामेंट के अंडर-17 स्पर्धा के फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बन गई हैं। उन्नति ने थाईलैंड में शनिवार (तीन दिसंबर) को अंडर-17 महिला एकल के सेमीफाइनल में जापान की मियोन योकोची को 21-8, 21-17 से हराया।

शीर्ष वरीय उन्नति ने एक बार फिर कमाल किया। उन्होंने अंडर-17 महिला एकल सेमीफाइनल में अपना दबदबा कायम रखते हुए सीधे सेटों में मैच को अपने नाम कर लिया। ओडिशा ओपन चैंपियन ने इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता में अब तक एक भी सेट नहीं गंवाया है। उन्नति अब स्वर्ण पदक मैच में थाईलैंड के सरुनराक वितिदसर्न से भिड़ेंगी।

अर्श और संस्कार ने भी किया कमाल
अर्श मोहम्मद और संस्कार सारस्वत की अंडर-17 पुरुष युगल जोड़ी ने भी शानदार जीत दर्ज की और खिताबी मुकाबले में जगह बनाई। अर्श और संस्कार की फॉर्म में चल रही जोड़ी ने चीनी ताइपे के ची-रुई चिउ और शाओ हुआ चिउ के खिलाफ अंडर-17 पुरुष युगल के सेमीफाइनल में 21-15, 21-19 से जीत दर्ज की। फाइनल में अब उनका सामना एक अन्य चीनी ताइपे प्रतिद्वंद्वी लाई पो यू और यी-हाओ लिन से होगा।

अनीश थोप्पानी फाइनल में
अंडर-15 एकल खिलाड़ी अनीश थोप्पानी फाइनल में पहुंच गए। सेमीफाइनल में अनीश ने एक सेट से पिछड़ने के बाद सनसनीखेज वापसी की और चीनी ताइपे के दूसरे वरीय ली यू-जुई को 18-21, 21-12, 21-12 से हराया। फाइनल में अनीश का सामना चीनी ताइपे के चुंग-सियांग यिह से होगा। चुंग-सियांग यिह ने दूसरे सेमीफाइनल में भारत के ज्ञान दत्तू को 21-16, 19-21, 21-13 से हराया।

ज्ञान दत्तू को कांस्य पदक
इस हार के बाद ज्ञान दत्तू को कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा। उनके अलावा अंडर-15 में पुरुष जोड़ी ब्योर्न जैसन और आतिश श्रीनिवास पी.वी को भी कांस्य मिला। ब्योर्न जैसन और आतिश श्रीनिवास पी.वी को मोहम्मद मुबारक और रेहान प्रामोनो की शीर्ष वरीयता प्राप्त इंडोनेशियाई जोड़ी ने 18-21, 14-21 हराया।