तहसील दफ्तर का बाबू जिंदा को मुर्दा बताकर कर रहा था खेल, सरकार को लगाया 11 करोड़ का चूना

Whatsapp
केवलारी तहसील कार्यालय में पदस्थ कर्मचारी सचिन दहायत ने लगभग 279 जिंदा लोगों को मुर्दा बताकर लाभ दिलाया. इस तरह आरोपी ने राजस्व विभाग को 11 करोड़ 16 लाख रुपयों का चूना लगाया है. अब पुलिस उन सभी लोगों के बैंक खातों को खंगाल रही है, जिन खातों में राहत राशि के नाम पर रुपए डाले गए हैं. फिलहाल राजस्व विभाग और पुलिस अधिकारियों ने मामले में विवेचना होने का हवाला देते हुए कैमरे के सामने कुछ भी कहने से मना कर दिया है.
राष्ट्र चंडिका,सिवनी. सिवनी जिले के केवलारी में 279 जिंदा लोगों को मृत बताकर 11 करोड़ 16 लाख रुपए का घोटाला कर दिया गया. राजस्व विभाग केवलारी में प्राकृतिक आपदाओं का शिकार हुए लोगों और उनके परिजनों को दी जाने वाली राहत राशि में घोटाला किया गया. इसमें तहसील कर्मचारी सहायक ग्रेड 3 सचिन दहायत के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. पुलिस आरोपी की तलाश कर रही है.
सिवनी जिले में राजस्व विभाग केवलारी में आरबीसी 6-4 के तहत प्राकृतिक आपदाओं के शिकार लोगों और उनके परिवार को दी जाने वाली राहत राशि में 11 करोड़ 16 लाख रुपयों का घोटाला पकड़ा गया. इसके बाद सिवनी के केवलारी तहसीलदार हरीश लालवानी के निर्देश पर पुलिस थाने में सहायक ग्रेड 3 कर्मचारी सचिन दहायत के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. पुलिस मामले की विवेचना कर रही है. आरोपी फरार बताया जा रहा है.
राजस्व विभाग को 11 करोड़ का चूना लगाया
जानकारी के मुताबिक केवलारी तहसील कार्यालय में पदस्थ कर्मचारी सचिन दहायत ने लगभग 279 जिंदा लोगों को मुर्दा बताकर लाभ दिलाया. इस तरह आरोपी ने राजस्व विभाग को 11 करोड़ 16 लाख रुपयों का चूना लगाया है. अब पुलिस उन सभी लोगों के बैंक खातों को खंगाल रही है, जिन खातों में राहत राशि के नाम पर रुपए डाले गए हैं. फिलहाल राजस्व विभाग और पुलिस अधिकारियों ने मामले में विवेचना होने का हवाला देते हुए कैमरे के सामने कुछ भी कहने से मना कर दिया है.
विधायक ने उच्चस्तरीय जांच कराने की बात कही
इस पूरे मामले में स्थानीय विधायक राकेश पाल सिंह ने मीडिया से बातचीत की. उन्होंने कहा यह काम किसी एक व्यक्ति या कर्मचारी का नहीं है, इसमें बहुत से लोग शामिल हैं. इस मामले को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के संज्ञान में लाकर मामले की उच्चस्तरीय जांच कराई जाएगी. विधायक ने इस घोटाले में शामिल दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने की बात कही है. फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है.