देवाधिदेव का अभिषेक-पूजन कर भक्तों ने की कामना

Whatsapp

 राष्ट्र चंडिका,सिवनी । सावन माह के दूसरे सोमवार को देवाधिदेव महादेव का अभिषेक-पूजन करने देवालयों में सुबह से भक्तों की भीड़ उमड़ी है। भक्तों की सुविधा के लिए नगर के प्रमुख शिवालयों में विशेष तैयारियां की गईं। नगर के मठ मंदिर, गुरूधाम दिघौरी, शंकर मढ़िया, बालरूप हनुमान मंदिर, महाकालेश्वर धाम, भैरोगंज स्थित शिव मंदिर सहित अन्य शिव मंदिरों में शिव अभिषेक करने सुबह से श्रद्धालू पहुंचे। मुख्यालय के अलावा जिले के विभिन्नाा क्षेत्रों में स्थित शिवालयों में भी भक्तों का तांता लगा रहा। शहर के बालरूप हनुमान मंदिर के गर्भ गृह में शिव अभिषेक किया गया। सावन माह के दूसरे सोमवार को यहां विशेष पूजन भी किया गया। वहीं शहर के सिद्धपीठ मठ मंदिर में सावन माह के पहले दिन से जारी अखंड रामायण पाठ करने बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। मंदिर में स्थापित शिवलिंग का विशेष श्रृंगार किया गया।

मंदिर के पुजारी ने बताया कि सावन माह के सोमवार को भगवान शिव के अभिषेक करने से विशेष फल मिलता है। जलाभिषेक से सुवृष्टि, कुशोदक से दुखों का नाश, गन्नाो के रस से धन लाभ, शहद से अखंड पति सुख, कच्चे दूध से पुत्र सुख, शक्कर के शर्बत से वैदुष्य, सरसों के तेल से शत्रु का नाश और घी के अभिषेक से सर्व कामना पूर्ण होती है।भगवान शिव की पूजा का सर्वश्रेष्ठ काल-प्रदोष समय माना गया है। सावन में त्रयोदशी, सोमवार और शिव चौदस प्रमुख हैं। भगवान शंकर को भष्म, लाल चंदन, रुद्राक्ष, आक के फूल, धतूरे का फल, बेलपत्र और भांग विशेष प्रिय हैं।

गुरुधाम दिघोरी में स्थापित एशिया के सबसे बड़े स्फिटिक शिवलिंग के दर्शन, पूजन और अभिषेक करने बड़ी संख्या में भक्त पहुंचे। सिवनी जिले के अलावा आसपास के जिलों से भी यहां भक्तों का आना जाना लगा रहा। अधिक भीड़ होने के कारण भक्तों को लाइन में लग कर देवाधिदेव के दर्शन करने इंतजार करना पड़ा।