पाइपलाइन बिछाने और टंकियां बनाने का चल रहा काम, लोगों को मिलेगा शुद्ध पानी

Whatsapp

डूंगरपुर: जल जीवन मिशन के तहत पाइप लाइन बिछाने और टंकिया बनाने समेत कई तरह के काम चल रहे है, जिनके इस साल तक पूरा होने की संभावना है।आने वाले समय में डूंगरपुर जिले में पीने के पानी की समस्या नहीं रहेगी। शहर से लेकर गांव तक नई पाइपलाइन डालने के साथ टंकियां बनाने का काम चल रहा है, जिस पर करोड़ों रुपए खर्च किए जा रहे हैं। यह काम पूरा होने के बाद लोगों को शुद्ध पेयजल मिल सकेगा। केंद्र सरकार की जल जीवन मिशन के तहत ये काम करवाए जा रहे हैं।एडीएम हेमेन्द्र नागर ने पीएचईडी के सुपरिटेंडेंट इंजीनियर (अधीक्षण अभियंता) रामनिवास मीणा से ग्राम परियोजनाओं को स्वीकृत राशि एवं तकनीकी राशि के बारे में जानकारी ली। रामनिवास मीणा ने बताया कि जल जीवन मिशन के तहत आसपुर, साबला, सागवाड़ा और दोवड़ा के 61 गांवों की परियोजना चल रही है। इस पर 104 करोड़ 49 लाख रुपए खर्च किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि आसपुर और दोवड़ा ब्लॉक के 101 गांवों, डूंगरपुर ब्लॉक के 151 गांवों में 159 करोड़ 79 लाख के बजट से पानी पहुंचाया जाएगा। इन 313 गांवों में 264 करोड़ 28 लाख रुपए के बजट से पाइप लाइन बिछाने, टंकिया बनाने समेत कई तरह के काम चल रहे है, जिनके इस साल तक पूरा होने की संभावना है। इसके बाद इन गांवों में पानी की सप्लाई शुरू हो जाएगी।एसई ने बताया कि साबला व सागवाड़ा ब्लॉक के 212 गांवों में भी जल जीवन मिशन के तहत पानी पहुंचाने की योजना है। इन गांवों में बेणेश्वर एनीकट से पानी पहुंचाया जाएगा, जिसके लिए पहले 427 करोड़ 69 लाख रुपए का प्रपोजल था। उसे बाद में बढ़ाकर 469 करोड़ 63 लाख रुपए का किया गया है। इसी तरह झौंथरी, चिखली, सीमलवाड़ा और गलियाकोट ब्लॉक के 353 गांवों में कडाणा बैक वाटर से पेयजल पहुंचाने की योजना है। इसके लिए पहले 885 करोड़ 56 लाख का प्रपोजल भेजा था, जिसे संशोधित कर 1137 करोड़ 29 लाख रुपए का कर दिया है। योजना के तहत 565 गांवों में 1606 करोड़ 92 लाख के प्रपोजल पर बजट मिल जाएगा। जल जीवन मिशन में जिले के 878 गांवों में 1 हजार 871 करोड़ 2 लाख रुपए के बजट से शुद्ध पेयजल मुहैया करवाने की योजना है।गांवों में पेयजल पहुंचाने के लिए 2 विंग कर रही कामजलदाय विभाग के सुपरिटेंडेंट इंजीनियर रामनिवास मीणा ने बताया कि पेयजल को लेकर दो विंग बनाए गए है, जिसमें प्रोजेक्ट विंग और रेगुलर विंग कार्य कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्रोजेक्ट विंग में सोम कमला आंबा बांध, कडाना बैक वाटर एवं बेणेश्वर एनीकट से पानी पहुंचाने का काम किया जा रहा है। साथ ही रेगुलर विंग की ओर से बिछीवाड़ा, डूंगरपुर में ट्यूबवेल, खुले कुंओं से पानी की उपलब्ध करवाने का काम किया जा रहा है।