पति को गायब कर 1 लाख रुपए मांग रहे रेंजर और डिप्टी रेंजर

Whatsapp
पीड़ित महिला ने थाने में की शिकायत
राष्ट्र  चंडिका,सिवनी/छपारा- थाना क्षेत्र की एक प्रताड़ित महिला ने अपने पति को गायब कर 1 लाख रुपए की मांग करने के आरोप छपारा वन विभाग में पदस्थ रेंजर और डिप्टी रेंजर पर लगाते हुई छपारा थाने में शिकायत दर्ज कराई है।
उल्लेखनीय है कि पूरा मामला छपारा थाना क्षेत्र के पायली कला ग्राम का हैं। दरअसल पायली गांव की रहने वाली महिला सविता विश्वकर्मा पति राजेश विश्वकर्मा ने थाने में एक शिकायत करते हुए छपारा वन परिक्षेत्र के वन परिक्षेत्र अधिकारी सिद्धार्थ दीपंकर और सहायक परिक्षेत्र अधिकारी संजय जयसवाल और वनरक्षक राजेश बघेल पर आरोप लगाते हुए कहां है कि उनके पति राजेश विश्वकर्मा गांव में लकड़ी फर्नीचर बनाने का काम किया करते हैं उनके नाम से प्रधानमंत्री आवास योजना से मकान स्वीकृत हुआ है जिसके चलते राजेश ने पुराने मकान को तोड़कर मकान में लगी पुरानी लकड़ी निकली थी जिनका नया निर्माण मकान में लगाने वाली चौखट आदि बनाने के लिए किया जा रहा था। महिला ने अपनी शिकायत में कहा है कि वह और उसके परिवार का भी जंगल नहीं जाते मोहल्ले गांव के लोगों के द्वारा दी जाने वाली लकड़ी से ही उनका फर्नीचर आदि बनाते हैं वन विभाग ने जिस लकड़ी की जब्ती बनाई है वह गांव वालों की है।
 4 दिनों से पति गायब, थाने पहुंची पत्नी – महिला ने अपनी शिकायत में कहा है कि 4 मई को करीब 3 बजे वन विभाग छपारा से चार से पांच अधिकारी घर आए और कुछ पुरानी लकड़ी का ग्राम के लोगों की सामग्री बनाने आई को वन विभाग के अधिकारियों ने जप्त कर लिया जिसे ट्रैक्टर में भरकर छपारा ले जा लिया गया। महिला ने कहा है कि राजेश विश्वकर्मा को भी वन विभाग के अधिकारियों ने साथ में ले गए। उसने बताया कि उसके पति से वन विभाग के अधिकारियों ने एक लाख रुपए ले आना यदि एक लाख रुपए नहीं लाए तो बड़ी कार्यवाही की जाएगी यदि पैसे देते हो तो सामान्य कार्यवाही कर देंगे राशि की व्यवस्था ना करने पर निर्माणाधीन मकान में लगी चौखट सब जप्त कर ली जाएगी। जिस दिन जब्ती की कार्यवाही की गई थी और राजेश को छपारा वन विभाग लाया गया था तब डिप्टी रेंजर संजय जयसवाल ने कहा था पति ने घर पहुंचने पर बताया कि 5 मई को 1 बजे लगभग लाख रुपए की व्यवस्था कर वन विभाग कार्यालय जाने को कह कर घर से निकले हैं लेकिन सविता विश्वकर्मा के पति राजेश शाम तक घर वापस नहीं आए तो सविता विश्वकर्मा ने वन विभाग कार्यालय में पति को देखने पहुंची लेकिन राजेश दिखाई नहीं दिए तो वापस घर चली। आई शुक्रवार को पति को तलाशने वन विभाग कार्यालय पहुंची लेकिन वहां फिर राजेश नहीं मिला जिस पर सविता विश्वकर्मा ने थाने में की गई शिकायत पत्र में उल्लेख किया है कि वन विभाग के अधिकारी डिप्टी रेंजर और रेंजर साहब के साथ बीट प्रभारी नाकेदार के द्वारा उनके पति को रुपए के लिए प्रताड़ित किया गया होगा या मारपीट किया गया होगा जिसके चलते राजेश का पता नहीं चल पा रहा है। जिस पर सविता विश्वकर्मा ने वन विभाग के अधिकारियों पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि डिप्टी रेंजर बीट प्रभारी और रेंजर के विरुद्ध उचित कार्यवाही की जाए साथ ही उसने यह भी लिखा है कि पति से एक लाख की मांग किए जाने व मानसिक रूप से परेशान किए जाने पर परेशान है पुलिस प्रशासन से महिला ने न्याय की गुहार लगाई है. सब मामला सामने आने के बाद वन विभाग की कार्यप्रणाली पर कई बड़े सवाल खड़े हो गए हैं।